उपज के लाभकारी मूल्य न मिलने पर 11 को किसान करेंगे धरना-प्रदर्शन

उपज के लाभकारी मूल्य न मिलने पर 11 को किसान करेंगे धरना-प्रदर्शन

चित्रकूट ब्यूरो: भारतीय किसान संघ ने कृषि संबंधी तीन कानून वापस लेने पर सवालिया निशान लगाए हैं। संघ के जिलाध्यक्ष संतोष कुमार पांडेय ने कहा कि उपज के लाभकारी मूल्य के लिए 11 जनवरी को विकास खंड और तहसील स्तर पर किसान जागरण धरना-प्रदशर्न किया जाएगा।
जिलाध्यक्ष संतोष पांडेय ने कहा कि केंद्र द्वारा खेती के लिए लाए गए तीनों कानून तथाकथित किसान आंदोलन की राष्ट्रविरोधी, समाजतोड़क गतिविधियों के परिणामस्वरूप वापस लिए जाने से भारतीय किसान संघ अचंभित है। संभवतया पीएम ने विवाद टालने के लिए यह कदम उठाया हो पर किसान के नाम पर जिस प्रकार आपराधिक घटनाएं घटीं, ऐसा कृत्य करने वाले कम से कम किसान तो नहीं हो सकते। किसान नेता ने कहा कि आथिर्क सुधार के मद्देनजर कृषि क्षेत्र के लिए आए कानूनों में बिना कुछ काला बताए, उन्हें वापस लेने को बाध्य करने वाली इस किसान विरोधी हरकत को देश का किसान बदार्श्त नहीं करेगा। भारतीय किसान संघ ने कृषि कानूनों में चार संशोधनों के पश्चात लागू करने की बात कही थी। संघ की सबसे महत्वपूणर् मांग उपज का लाभकारी मूल्य दिए जाने की थी। इसलिए संघ का आंदोलन जारी है। भारतीय किसान संघ के कायर्कतार् इसके लिए किसानों को जागरूक करने को दस जनवरी तक गांवों में प्रवास भी कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि संघ ने 11 जनवरी को हर ब्लाक में धरना प्रदशर्न करने की रणनीति बनाई है। इस दौरान किसानों को इस मांग को लेकर जागरूक किया जाएगा। बाद में राष्ट्रपति और राज्यपाल को अलग-अलग मांगों संबंधी ज्ञापन भेजा जाएगा।