ग्राम पंचायत चकजाफर में ग्राम प्रधान व सचिव ने मनरेगा योजना में की जमकर लूट

ग्राम पंचायत चकजाफर में ग्राम प्रधान व सचिव ने मनरेगा योजना में की जमकर लूट

चित्रकूट। पहाड़ी विकासखंड के ग्राम पंचायत चकजाफर में सचिव की मनमानी खूब देखने को मिल रही है जहां पर सचिव ने फर्जी मस्टररोल भरकर सरकारी धन का जमकर बंदरबांट किया है जिसमें बिना मजदूरी करने वाले लोगों को मजदूर दिखाकर लाखों रुपए का गबन किया है lआपको बतादे कि क्षेत्र पंचायत सदस्य गौलाल यादव ने जिलाधिकारी से शिकायत की है कि ग्राम पंचायत चकजाफर में मनरेगा के कामो में फर्जी मास्टररोल भरकर लाखों रुपए का बंदरबांट सचिव व पूर्व ग्राम प्रधान द्वारा किया गया है। और आवासों के नाम पर की गयी अवैध वसुली अपात्रों को आवास दिलाने का काम किया गया है व जिम्मेदार अधिकारियों को गुमराह किया गया है। तालाबों मनरेगा के कामो में फर्जी तरीके से मास्टररोल भरकर सरकारी धन का बंदरबांट किया गया है।जिम्मेदार अधिकारियों को गुमराह कर व मोटी रकम देकर अपात्रों को आवास दिलाने का काम किया है जिन लोगों के पास दो मंजिला मकान व मोटरसाइकिल है उन लोगों को भी आवास दिलाने का काम किया है। सवाल यह भी उठता है कि ग्राम पंचायत चकजाफर के सचिव द्वारा मनरेगा योजना से कराए गए कार्यों में जमकर धांधली की गई है व फर्जी मस्टररोल भरकर सरकारी धन की लूट की गई है वहीं आवासों के नाम पर अवैध तरीके से वसूली करते हुए कार्य को किया गया है । ऐसे सचिव व ग्राम प्रधान पर आखिर जिला प्रशासन कब शिकंजा कसने का काम करेगा l