चित्रकूट में जिला पंचायत के निर्विरोध अध्यक्ष का इतिहास

चित्रकूट में जिला पंचायत के निर्विरोध अध्यक्ष का इतिहास

तीसरे प्रत्याशी के रूप में निर्विरोध चुने गए भाजपा के अशोक जाटव

पूर्व में सपा से वीर सिंह पटेल और मैना देवी निर्विरोध हुए थे काबिज

चित्रकूट – जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर अन्य दल के किसी भी दावेदार ने नामांकन नहीं किया। जिससे भाजपा के प्रत्याशी अशोक जाटव का निर्विरोध अध्यक्ष चुना जाना तय हो गया है।अब मात्र नामांकन पत्र की जांच की औपचारिकता शेष रहने के कारण जीत सुनिश्चित हो गयी है। अध्यक्ष पद का ताज भाजपा प्रत्याशी अशोक जाटव के सिर सज चुका है। इससे पहले वर्ष 2005 में दस्यु ददुवा के बेटे वीर सिंह पटेल सपा से निर्विरोध अध्यक्ष चुने गए थे और 2015 में सपा से ही शिवशंकर यादव की पत्नी मैना देवी निर्विरोध अध्यक्ष चुनी गई थी।आज निर्धारित तीन बजे तक भाजपा के अशोक जाटव के विरोध में किसी ने भी नामांकन पत्र दाखिल नहीं किया।जिसके बाद अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित पंचायत की कुर्सी में अशोक जाटव निर्विरोध काबिज हुए हैं।
सबसे अधिक सदस्य जीतने का दावा करने वाली बहुजन समाज पार्टी इस चुनावी मैदान से पहले ही बाहर हो गई थी। उसने हाथ खड़े कर दिए थे। तय कर लिया था कि वह इस चुनाव में अपना प्रत्याशी नहीं उतारेगी। सपा भी पहले ही अध्यक्ष पद की रेस से बाहर हो चुकी थी। आज सुबह 11 बजे से दोपहर तीन बजे तक कलक्ट्रेट स्थित जिलाधिकारी न्यायालय कक्ष में नामांकन की प्रक्रिया होनी थी। भाजपा ने पूर्व जिलाध्यक्ष अशोक जाटव पर भरोसा जताया था। जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए उन्हें अपना प्रत्याशी बनाया था। दोपहर 12 बजे अशोक जाटव लोनिवि राज्यमंत्री चन्द्रिकाप्रसाद उपाध्याय, सांसद आरके सिंह पटेल,विधायक आनंद शुक्ला, जिलाध्यक्ष चंद्रप्रकाश खरे के साथ नामांकन करने पहुंचे। उनके साथ आये समर्थक भी उत्साह से लवरेज नजर आ रहे थे। प्रशासन अब अशोक जाटव को जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर निर्वाचित होने का प्रमाण पत्र देने की औपचारिकता पूरी करेगा।

*अन्नू मिश्रा – ब्यूरो चित्रकूट*