जनपद के शतप्रतिशत मजदूरों का हो पंजीकरण-डीएम

जनपद के शतप्रतिशत मजदूरों का हो पंजीकरण-डीएम

विकास भवन सभागार में डीएम ली बैठक

उरई (जालौन)- जिलाधिकारी डाॅ. मन्नान अख्तर की अध्यक्षता में विकास भवन सभागार में शासन के निर्देशों के क्रम में जनपद में कार्यरत निर्माण श्रमिकों के शत-प्रतिशत पंजीयन एवं पूर्व से पंजीकृत श्रमिकों के नवीनीकरण तथा योजना हितलाभ के सम्बन्ध में एक महत्वपूर्ण बैठक सम्पन्न हुई। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी श्री प्रशान्त कुमार श्रीवास्तव, उपायुक्त श्रम एवं रोजगार अवधेश कुमार दीक्षित, श्रम प्रवर्तन अधिकारी आर. के. चतुर्वेदी, समस्त खण्ड विकास अधिकारी, समस्त अधिशाषी अधिकारी नगर पालिका/नगर पंचायत, लोक निर्माण विभाग एवं अन्य कार्यदायी संस्थाओं के अधिकारीगण उपस्थित रहे। बैठक में श्रम प्रवर्तन अधिकारी द्वारा निर्माण कार्य से जुड़ी 40 विभिन्न श्रेणियों एवं श्रमिकों के पंजीकरण की व्यवस्था के सम्बन्ध में अवगत कराते हुये बताया गया कि वर्तमान में भारत सरकार की मंशानुरूप दिनांक 30 सितम्बर 2020 तक जनपद में कार्यरत समस्त निर्माण श्रमिकों के पंजीकरण हेतु ‘‘मिशन मोड प्रोजेक्ट‘‘ के तहत शासन की अधिसूचना 26.03.2010 के अनुसार लगभग सभी निर्माण इकाइयों के अधिकारियों को शासन द्वारा पंजीयनकर्ता अधिकारी नामित किया जा चुका है और इन अधिकारियों द्वारा अपने-अपने क्षेत्रान्तर्गत आवर्त निर्माण श्रमिकों का आॅनलाईन पंजीकरण श्रम विभाग के पोर्टल नचइवबूण्पद के माध्यम से कराया जाना है। श्रम प्रवर्तन अधिकारी द्वारा यह भी अवगत कराया गया कि श्रमिकों को 90 दिन का कार्य प्रमाण पत्र उपलब्ध न होने की दशा में उनके स्वयं के प्रमाण पत्र के आधार पर पंजीकरण किया जा सकेगा।
उक्त कार्य हेतु जिलाधिकारी द्वारा सभी निर्माण इकाइयों के अधिकारियों से यह अपेक्षा की गयी कि वह अपने-अपने क्षेत्रों में डोर-टू-डोर श्रमिकों का चिन्हींकरण करते हुये उनका अधिक से अधिक पंजीकरण आॅनलाईन माध्यम से समयान्तर्गत करायें, जिसकी समीक्षा समय-समय पर उनके द्वारा स्वयं की जायेगी।