पुलिस हिरासत में हुई हत्या कानून व्यवस्था पर खडा कर रहा प्रश्नचिन्ह

 

चित्रकूट: उत्तर प्रदेश के वामपंथी दल सीपीआई, सीपीआईएम, सीपीआईएमएल, ऑल इंडिया फॉरवडर् ब्लॉक के प्रादेशिक आवाहन पर का रुद्र प्रसाद मिश्र व का अमित यादव एड के संयुक्त नेतृत्व में पदाधिकारियों ने तहसील मुख्यालय पहुंचकर राज्यपाल को सम्बोधित ज्ञापन एसडीएम कवीर् को सौंपा गया।
सीपीएम जिला सचिव का रुद्र प्रसाद मिश्र ने कहा कि बीती 15 अप्रैल की रात में प्रयागराज में पुलिस हिरासत में जिस तरह से दो लोगों की हत्या की गई उस कृत्य ने प्रदेश की कानून व्यवस्था पर गहरा प्रश्नचिन्ह खड़ा कर दिया है। वारदात के समय काफी संख्या में मौजूद पुलिस द्वारा हमलावरों के विरुद्ध कोई भी प्रतिक्रिया नहीं की गई और हमलावर इत्मीनान के साथ हत्या का अपराध करने में सफल हुए। यह घटनाएं स्पष्ट करती है कि प्रदेश में कानून का राज नहीं रह गया है और अपराधी पुलिस बल पर भारी हैं। हमलावरों ने हत्या के बाद जो नारे लगाए और सरकार के मंत्रियों तथा भाजपा के नेताओं के जो बयान आ रहे हैं उससे सांप्रदायिक नफरत पैदा करने की कोशिश स्पष्ट नजर आ रही है। इससे पहले भी बलिया में एक छात्र नेता को गुंडों ने दौड़ा-दौड़ा कर मार डाला, किंतु पुलिस द्वारा अपराधियों के विरुद्ध कोई भी कायर्वाही नहीं की गई। फजीर् एनकाउंटर के द्वारा आरोपितों की पुलिस द्वारा हत्या की घटनाएं प्रकाश में आ रही हैं ।
कामरेड अमित यादव एड. ने कहा कि योगी सरकार न्यायपालिका के कायोंर् को अपने हाथों में लेकर खुद ही दंड दे रही है। बयानों में मुख्यमंत्री इस बात को साबित भी कर रहे हैं। दूसरी तरफ प्रदेश में कमजोर तबकों, अल्पसंख्यकों और महिलाओं पर हमले और उनका उत्पीड़न निरंतर बढ़ता जा रहा है । जिसकी खबर प्रति दिन अखबारों में छपा करती हैं। पुलिस थाने में उत्पीड़ित कमजोर लोगों की कोई सुनवाई नहीं हो रही है। कानून व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए यथाशीघ्र आवश्यक कदम उठाए जाएं। कानून का राज स्थापित किया जाए।
इस मौके पर का. राजेन्द्र कुमार, रविकरन, अजय सिंह, आनंद कुमार यादव, दुगार् प्रसाद गुप्ता, रामप्रताप विश्वकमार्, प्रद्युम्न यादव, दादूराम, भूषण, शिवबरन हनुमान सुरेन्द्र आदि मौजूद रहे।