बगैर टोटी बाले नलों के बेकार बहते पानी से पेयजल संकट गहराया

बगैर टोटी बाले नलों के बेकार बहते पानी से पेयजल संकट गहराया

 

जगम्मनपुर, (जालौन ) जलकल इकाई रामपुरा के अंतर्गत ग्राम जगम्मनपुर में बिना टोटी के नलों से बहते हुए पानी के कारण अधिकांश आबादी पेयजल संकट से जूझ रही है।
ज्ञात हो कि ग्राम जगम्मनपुर विकासखंड रामपुरा की सर्वाधिक आबादी वाला गांव है। मतदाता सूची के 6000 वोटर्स के आधार पर जगम्मनपुर की जनसंख्या लगभग 12000 है। आज से लगभग 45 वर्ष पूर्व यहां जल संस्थान के दो नलकूप की बोरिंग कराई गई थी जो उस समय जगम्मनपुर की आबादी के लिए पर्याप्त थी। दो नलकूप एवं साढ़े पांच हजार गैलन क्षमता वाली पानी की टंकी से सप्लाई होने पर जगम्मनपुर, हुसेपुरा , हमीरपुरा, बेनीपुरी, मढेपुरा शिवगंज आदि अनेक गांव में पानी पर्याप्त मात्रा में मिलता था । सेवानिवृत्त शिक्षक अरविंद सोनी बताते हैं कि सन् 1977-1978 में नल की सप्लाई खुलते ही बगैर टुल्लू पंप के 25 फुट ऊपर छतों पर पानी प्रेशर के साथ चढ जाता था। 300 नल कनेक्शन पर एक ट्यूबवेल के मानक से दो नलकूपों पर छह सौ नल कनेक्शन की क्षमता में अब लगभग 1200 कनेक्शन हो गए हैं जो उपलब्ध संसाधनों पर लगभग दोगुने कनेक्शन है , इसके अतिरिक्त 45 वर्ष पूर्व बिछाई गई पाइप लाइन भी जर्जर हो गई जिससे जगह-जगह गांव में लीकेज होने से गांव के आधे से अधिक नलों में पानी नहीं टपकता है वही गांव में कुछ हिस्सों में पानी की सप्लाई न पहुंचने का कारण यह भी है की लगभग 300 नल ऐसे भी हैं जिनमें टोंटी न होने के कारण वाटर सप्लाई से लेकर सप्लाई बंद होने तक अनवरत पानी बेकार बहता रहता है। अवगत हो कि जगम्मनपुर बीहड़ क्षेत्र का गांव होने के कारण असमतल है जिसमें लगभग 60% आबादी ऊंचाई वाले मोहल्लों में रहती है एवं 40% आबादी के मकान ढालू अथवा नीचे के हिस्से में बने हैं जो मकान नीचे के क्षेत्र में हैं वहां पानी उतर कर नलों से बेकार बहता रहता है जिसके कारण जगम्मनपुर में पेयजल का संकट गहराया है। कुछ जानकार लोगों का मानना है कि यदि एक अन्य नलकूप की बोरिंग जगम्मनपुर हुसेपुरा रोड पर बिजली घर के आस-पास हो जाए तो नीचे के हिस्से से ऊपर की ओर पानी ठेलने पर गांव में ऊंचे बसे मोहल्लों के घरों में सप्लाई मिल सकती है।

नलों में टोंटी लगा लेने के लिए अनाउंस कराया गया है । जिन लोगों के नलों में टोटी नहीं है उनकी सूची बनाकर हिदायत दी जा रही है। यदि सुधार न हुआ तो विभागीय अधिकारियों को सूची देकर कार्यवाही कराई जाएगी । *प्रज्ञादीप गौतम, ग्राम प्रधान जगम्मनपुर*

मेंन्टीनेंस सामग्री उपलब्ध होते ही जर्जर पाइप लाइनों को ठीक कराया जाएगा । नलों में टोटी न लगा कर बहुमूल्य पेयजल को बेकार बहाने वाले लोगों को नोटिस देकर उनके विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी । *प्रवीण कुमार यादव, अधिशासी अभियंता जल संस्थान जालौन (उरई)*