मुख्यमंत्री ने बाढ़ ग्रस्त पंचनद क्षेत्र का दौरा कर पीड़ितों को बांटी राहत सामग्री

मुख्यमंत्री ने बाढ़ ग्रस्त पंचनद क्षेत्र का दौरा कर पीड़ितों को बांटी राहत सामग्री
 बाढ़ से निपटने के लिए प्रशासन की तैयारियों पर जताया संतोष
जगम्मनपुर, (जालौन)मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज जनपद जालौन के बाढ़ ग्रस्त पंचनद क्षेत्र का हवाई सर्वेक्षण कर बाढ़ पीड़ितों को राहत सामग्री का वितरण किया व राहत शिविरों का निरीक्षण कर प्रशासन की तैयारियों पर संतोष व्यक्त किया l
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज जनपद जालौन के ग्राम जगम्मनपुर में पंडित परशुराम द्विवेदी महाविद्यालय में बाढ़ से बेघर हुए लोगों के लिए बनाए गए अस्थाई शिविर का निरीक्षण कर प्रशासन की तैयारियों पर संतोष व्यक्त किया व बाढ से बेघर हुए लोगो को राहत सामग्री बितरित की एवं मृतकों के परिजनों को सांत्वना राशि का चेक सौंपा l  इस अवसर पर उन्होंने कहा कि यह पंचनद क्षेत्र जहां पांच नदियों का संगम है इसमें चंबल पर कोटा बैराज एवं यमुना की हस्ती बांध से बहुत अधिक मात्रा में पानी छोड़े जाने के कारण गंभीर स्थिति हुई है l उन्होंने कहा कि मैंने कल भी औरैया दौरे के दौरान पंचनद क्षेत्र के बाढ़ प्रभावित इलाके का हवाई सर्वेक्षण किया और आज भी बाढ़ को देखा अब स्थिति नियंत्रण में है और शीघ्र ही बाढ़ का पानी कम होने की संभावना है l मुख्यमंत्री ने बताया कि बाढ़ ग्रस्त इलाके में राहत एवं बचाव कार्य कराए जा रहे हैं इसके लिए नौकाओं का प्रबंध किया गया है, आवश्यक सेवाओं, दवाओं एवं पशुओं की चारे की व्यवस्था की गई है , जो भूभाग बाढ से अधिक प्रभावित हुए हैं वहां लोगों को राहत शिविरों में विस्थापित किया गया है l उन्होंने जनप्रतिनिधियों के सहयोग से प्रशासन द्वारा चलाए जा रहे राहत एवं बचाव कार्य संतोष व्यक्त किया जनपद जालौन में आई बाढ़ की स्थिति का जायज़ा लेने आये मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बाढ़ पीड़ित परिवारों को बांटी राहत सामग्री और हवाई सर्वेक्षण कर आपदा से निपटने के लिए हर सम्भव प्रयास करने का दिलाया भरोसा उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी के भ्रमण कार्यक्रम के अन्तर्गत जनपद जालौन के बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण करने के उपरान्त स्थानीय पं0 परशुराम द्विवेदी महाविद्यालय जगम्मनपुर में बाढ़ ग्रस्त क्षेत्रों के राहत शिविरों का निरीक्षण किया। उन्होने बाढ़ पीड़ितों के परिवारों को राहत सामग्री भी वितरित की। उन्होने आपदा के दौरान मृत व्यक्तियों के परिवारों को भी सहायता राशि प्रदान की। इसके उपरान्त मा0 मुख्यमंत्री जी जनपद के संबंधित अधिकारियों के साथ बाढ़ ग्रस्त उपायों के संबंध में समीक्षा की। समीक्षा के दौरान जिलाधिकारी प्रियंका निरंजन ने बताया कि यमुना, बेतवा एवं पहूज नदी में बाढ़ के कारण समस्त तहसीलों के 1155 राजस्व ग्रामों से लगभग 158 राजस्व ग्राम प्रभावित होते हैं। जिलाधिकारी ने बताया कि वर्तमान में काली सिन्ध, पार्वती नदियों एवं कोटा बैराज से चम्बल नदी में पानी छोड़े जाने के कारण कालपी में यमुना नदी के जल स्तर में दिनांक 29.07.2021 से वृद्धि हो रही है जो दिनांक 04.08.2021 को 18ः00 बजे खतरे के निशान 108.00 मी0 से ऊपर पहुंच गया तथा जल स्तर में लगातार वृद्वि हो रही हैं। दिनांक 09.08.2021 को 4ः00 बजे कालपी में यमुना का जल स्तर 112.870 मी0 है, जो कि लाल निशान से 4.870 मी0 ऊपर है। जनपद औरैया से जनपद जालौन के कुठौन्द, रामपुरा, माधौगढ़ विकास खण्ड सटे होने के कारण इन विकास खण्डों में बाढ़ प्रभाव अत्यधिक है तथा उक्त बाढ़ का प्रभाव कालपी तक विद्यमान हैं। स्थानीय नदियां पहुंज एवं सिन्ध तथा क्वारी में भी अत्यधिक मात्रा में पानी आने के कारण बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में वृद्वि हुई हैं। उक्त नदियां अब घट रही हैं। केन्द्रीय जल आयोग ने पूर्वानुमान के अनुसार दिनांक 10.08.2021 के 01ः00 बजे कालपी में यमुना का जल स्तर घटता हुआ 112.400 मी0 पर होगा। उपरोक्त पूर्वानुमानों एवं बढ़त ट्रेन्ड के दृष्टिगत कालपी में यमुना नदी का जल स्तर दिनांक 10.08.2021 से द्वितीय अधिकतम स्तर पर पहुंचने के बाद घटने की सम्भावना हैं। जनपद में बाढ़ नियंत्रण हेतु जनपद के मुख्यालय कलेक्ट्रेट में 24 घण्टे हेतु कन्ट्रोल रूम की स्थापना की गयी जिसका दूरभाष नं0- 05162-252313 है जिस पर 08-08 घण्टे की तीन-तीन कर्मचारियों की ड्यूटी लगायी गयी हैं। इसी प्रकार सभी तहसीलों में बाढ़ नियंत्रण कक्ष स्थापित किये गये हैं। जनपद में संबंधी सूचना का आदान प्रदान करने हेतु फ्लड जालौन के नाम से व्हाटसअप ग्रुप बनाकर सूचना का आदान प्रदान किया जा रहा है। जनपद के सभी तहसीलों के ग्रामों में जिनमें बाढ़ की सम्भावना थी उनमें मुनादी कराकर चेतावनी का प्रसारण कराया गया है एवं लोगो को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया है। बाढ़ के राहत कार्यो हेतु एसडीआरएफ की 01 टीम तहसील माधौगढ़ में, एनडीआरएफ की 02 टीमें जनपद में है जिसमें 01 टीम तहसील जालौन एवं 01 टीम तहसील कालपी में बचाव कार्य कर रही हैं। सेना के 80 लोगो की टीम जनपद में है जो तहसील माधौगढ़ एवं जालौन में बचाव कार्य जिला प्रशासन के साथ कर रही हैं। बचाव कार्य हेतु लोकल मछुवारों की 99 नावें एवं फैजाबाद से 08 इलेक्ट्रानिक वोट मंगाकर राहत कार्य कराया जा रहा हैं। सभी बाढ़ प्रभावित ग्रामों में राहत टीम के साथ मेडीकल टीम भी भ्रमण कर लोगो का आवश्यक उपचार दिया रहा है साथ ही ओ0आर0एस0 एवं क्लोरीन की टेबलेट का भी वितरण किया जा रहा हैं। इसी प्रकार पशुओं हेतु भी बेटनरी मेडीकल टीम ग्रामों में भ्रमण कर राहत कार्य कर रही हैं। बाढ़ प्रभावित ग्रामों में अब तक 573 सूखा राशन एवं 3971 लंच पैकेट जिला प्रशासन द्वारा वितरित किये गये हैं। स्वास्थ्य विभाग की ओर से की जाने वाल कार्यवाही के बारे में बताया कि मुख्यालय स्तर पर कन्ट्रोल रूम की स्थापना की गयी है जिसमें 24 घण्टे कर्मचारी कार्यरत रहते है जिसकी दूरभाष नं0-

05162-252516 है। साथ ही जनपद में 28 बाढ़ चैकियों का गठन किया गया है। प्रत्येक ब्लाक में बाढ़ से निपटने के लिये तीन-तीन टीमें बनायी गयी हैं। संक्रामक बीमारियों से बचाव हेतु पम्पलेट/हैण्डबिल एवं समाचार पत्रों के माध्यम से प्रचार-प्रसार करवाया जा रहा है। प्रत्येक बाढ़ ग्रसित क्षेत्र के चिकित्सालयों पर पर्याप्त मात्रा में औषधियां उपलब्ध हैं। बाढ़ से बचाव हेतु ब्लाक स्तर पर प्रभारी चिकित्सा अधिकारियों को नोडल अधिकारी नामित किया गया है। बैठक में मा0 मुख्यमंत्री जी द्वारा मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देशित किया कि बाढ़ ग्रस्त क्षेत्रों में दवाओं की पर्याप्त उपलब्धता करायें। उन्होने पशुपालन विभाग को भी निर्देशित किया कि बाढ़ ग्रस्त क्षेत्रों में पशुओं के चारा, भूसा तथा दवाओं की समुचित व्यवस्था की जाये। उन्होने सिंचाई एवं पेयजल विभाग को निर्देशित किया कि जिन ग्रामों में अभी पानी है उनकी समुचित जगह पहुंचाने हेतु व्यवस्था की जाये। मा0 मुख्यमंत्री जी बाढ़ ग्रस्त 114 गांवों जो पानी से घिरे हुये हैं उनको राहत शिविर में ले जाकर के राहत पैकेट वितरित किये जाये। उन्होने बाढ़ ग्रस्त क्षेत्रों के प्रत्येक गांव के निरीक्षण किये जाये तथा पर्याप्त राहत व्यवस्था समुचित करायी जाये।
बैठक में मा0 प्रभारी मंत्री नीलिमा कटियार, मा0 विधायक सदर गौरीशंकर वर्मा, मा0 विधायक माधौगढ़ मूलचन्द्र निंरजन, मा0 विधायक कालपी नरेन्द्र पाल सिंह जादौन, मण्डलायुक्त अजय शंकर पाण्डेय, डीआईजी जोगेन्दर सिंह, जिलाधिकारी प्रियंका निरंजन, पुलिस अधीक्षक रवि कुमार, अपर आयुक्त झांसी प्रमिल कुमार सिंह, अध्यक्ष जिला पंचायत घनश्याम अनुरागी, जिलाध्यक्ष भा0ज0पा0 रामेन्द्र सिंह बना, मुख्य विकास अधिकारी डा0 अभय कुमार, मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 ऊषा सिंह सहित संबंधित विभागीय अधिकारी एवं पदाधिकारी मौजूद रहे।