राजकीय मेडिकल कॉलेज में कॉलेज में कार्यरत समस्त कर्मचारियों को रोग प्रतिरोधक औषधि दवाओं की 200 किट बांटी गई

राजकीय मेडिकल कॉलेज में कॉलेज में कार्यरत समस्त कर्मचारियों को रोग प्रतिरोधक औषधि दवाओं की 200 किट बांटी गई

उरई (जालौन) राजकीय मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ डी नाथ को कालेज में कार्यरत समस्त कर्मचारियों के लिए रोग प्रतिरोधक औषधि कोविड से लड़ने के लिये जिला आयुर्वेदिक एवँ यूनानी अधिकारी डॉ मुरलीधर आर्या के नेतृत्व में आयुर्वेदिक अस्पताल कुइया के द्वारा निशुल्क दी जा रही दवाओं की 200 किट डाक्टर मनीष सचान के द्वारा दी गयी । रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए जीवनशैली में बदलाव लाना बहुत जरूरी है । इसके लिए जरूरी है कि खानपान अच्छा हो, नियम संयम का पालन करें। यह सुझाव राजकीय आयुर्वेदिक चिकित्सालय कुइया के चिकित्साधिकारी डॉ मनीष सचान ने दिया। उन्होंने बताया कि आम नागरिकों की रोग प्रतिरोधी क्षमता बढ़ाने के लिए विभाग की ओर से निशुल्क आयुर्वेदिक किट का वितरण किया जा रहा है। जिन लोगों को बुखार, जुखाम, बदनदर्द जैसी समस्या है, वह अपने नजदीकी आयुर्वेदिक अस्पतालों से औषधियां प्राप्त कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि आयुर्वेदिक किट प्रतिरोधी क्षमता बढ़ाने में कारगर है। जिसका नतीजा है कि जिन लोगों ने भी इस दवा का सेवन किया है, वह तीन से चार दिनों में ठीक हो गए हैं। आयुर्वेदिक किट में आयुष 64 शम्समनी बटी, अणु तेल, आयुष क्वाथ और अगस्त हरीतकी रसायन दी जा रही है।
आयुर्वेदिक चिकित्सक डा मनीष सचान ने बताया कि आयुर्वेदिक का असर लंबे समय तक रहता है। कोरोना काल में आयुर्वेदिक दवाओं ने बहुत काम किया है। विभाग की ओर से जो आयुर्वेदिक दवाएं दी जा रही है, उनका सेवन भोजन करने के बाद चिकित्सीय सलाह पर ही करना है। उन्होंने बताया कि हमें अपनी जीवनशैली में बदलाव लाना है ताकि हमारी प्रतिरोधी क्षमता बढ़ सके।

आयुर्वेदिक किट में यह सामान दिया जा रहा है
आयुष 64-शरीर में बुखार जैसी समस्या को दूर करने के लिए
संशमनी बटी-प्रतिरोधी क्षमता बढ़ाने के लिए
अणु तेल-नाक के द्वारा प्रयोग किया जाने वाला वायरस नाशक
आयुष क्वाथ-प्रतिरोधी क्षमता बढ़ाने वाले पेय अगस्त्स हरीतकी रसायन-सर्दी, खांसी, जुकाम और श्वांस संबंधी समस्या के लिए