राजापुर का नाम भारतीय पर्यटन में लाकर राजापुर का विकास करेंगे – रामभद्राचार्य

राजापुर का नाम भारतीय पर्यटन में लाकर राजापुर का विकास करेंगे – रामभद्राचार्य

चित्रकुट ( राजापुर) – परमपूज्य गोस्वामी तुलसीदास जी की जयंती के अवसर पर उनके जन्मस्थली जनपद चित्रकूट के राजापुर में धूमधाम से तुलसी कुटीर मंदिर पर तुलसी जयंती का आयोजन किया गया । इस मौके पर जगतगुरु रामभद्राचार्य मौजूद रहे जिन्होंने तुलसीदास जी की प्रतिमा को दूध से नहला कर फूल माला चढ़ाते हुए धूमधाम से उनकी जयंती मनाई है उनकी जयंती के कार्यक्रम में दूरदराज से आए हजारों की तादाद में श्रद्धालुओं ने तुलसीदास जी की पूजा अर्चना की है ।
आप बता दें कि तुलसीदास जी ने ही रामचरितमानस की रचना की थी और उन्हें चित्रकूट में ही भगवान श्री राम के दर्शन हुए थे इसलिए आज तुलसीदास जी के जयंती के अवसर पर उनकी जन्मभूमि राजापुर में तुलसी जन्मकुटीर मंदिर में बड़े ही धूमधाम से उनकी जयंती मनाई गई है वही इस मौके पर जगदगुरू रामभद्राचार्य का कहना है कि जो लोग उनके जन्म स्थली पर विवाद मानते हैं वह बिल्कुल गलत है तुलसीदास जी का जन्म चित्रकूट के राजापुर में ही हुआ था और इस क्षेत्र के विकास के लिए वह प्रयासरत हैं और राजापुर को अंतरराष्ट्रीय बनाने के लिए राजापुर की जनता का वह साथ चाहते हैं जिससे राजापुर का नाम भारतीय पर्यटन में लाकर राजापुर का विकास करेंगे ।