वतन लौट रहे नागरिकों पर नेपाली पुलिस ने किया लाठीचार्ज, नो मेंस लैंड पर धरना शुरू

0

सोमवार की देर रात भारत-नेपाल की सोनौली  सीमा पर स्थिति तनावपूर्ण हो गई। अपने वतन जाने के लिए भारत-नेपाल सीमा पर सैकड़ों की संख्या में नेपाली मूल के लोग अड़ गए। इसके बाद नेपाली प्रहरी दल (नेपाली पुलिस) ने लाठीचार्ज कर दिया। नेपाली पुलिस की सख्ती के चलते किसी भी नागरिक को नेपाल में प्रवेश नहीं मिल सका।

नो मेंस लैंड में धरने पर बैठे लोग

लाठीचार्ज होने से आक्रोशित लोग भारत- नेपाल सीमा के बीच में स्थित नो मेंस लैंड पर धरने पर बैठे गए। उनका कहना है कि जब तक नेपाल सरकार उन्हें अपने देश में प्रवेश नहीं देगी उनका धरना जारी रहेगा।

सील है भारत-नेपाल सीमा

कोरोना वायरस को लेकर भारत नेपाल सीमा सील है। नेपाल सरकार ने भारत से आने वाले अपने देश के नागरिकों पर भी पाबंदी लगा दी है। सोमवार की रात सोनौली सीमा से नोमेंस लैंड पर पहुंचे करीब 300 लोगों ने नेपाल में दाखिल होने के लिए हंगामा शुरू कर दिया। जिसके चलते सोनौली सीमा पर दोनों देशों की तरफ से बड़ी संख्या में पुलिस मौके पर पहुंच गई। इस दौरान नेपाली प्रहरी दल ने अपने ही  देश के नागरिकों पर जमकर लाठियां भांजी। सीमा पर फंसे लोगों का कहना है कि जब हमें भारत सरकार ने नेपाल बार्डर तक पहुंचा दिया तो हमारी सरकार  क्यों प्रवेश नहीं दे रही है। लाठीचार्ज से नाराज लोगों ने नो मेंस लैंड को जाम कर दिया  है। उनके द्वारा  नेपाल पुलिस के खिलाफ जमकर नारेबाजी गई।

पुलिस को सरकार के आदेश का इंतजार

नेपाल पुलिस के बेलहिया इंस्पेक्टर ईश्वरी अधिकारी ने बताया कि जब तक सरकार का कोई आदेश नहीं आएगा तब तक भारत के विभिन्न शहरों से आए नेपाल नागरिकों को दाखिल नहीं होने दिया जाएगा। सीमा पर तनाव को देखते हुए मौके पर पहुंचे एसडीएम नौतनवा जसधीर सिंह और सीओ राजू कुमार साव ने कहा की सीमा पर पर्याप्त पुलिस फोर्स तैनात की गई है नेपाली अधिकारियों से वार्ता की जा रही है जिससे इस समस्या का समाधान हो सके।

देर रात पहुंचे डीएम व एसपी, नहीं हो सका समाधान

सोमवार से नेपाल में प्रवेश को लेकर जारी गतिरोध मंगलवार को दूसरे दिन भी जारी रहा। तीन सौ की संख्या में मौजूद लोगों ने भारत- नेपाल सीमा पर स्थित नोमेंस लैंड पर कब्जा जमा लिया है। उनका कहना है कि जबतक नेपाल सरकार उन्हें अपने देश मेें प्रवेश नहीं देती नोमेंस लैंड पर उनका धरना जारी रहेगा। नागरिकों पर लाठीचार्ज व सीमा पर तनाव की सूचना मिलने पर देर रात महराजगंज के डीएम डा. उज्ज्वल कुमार व एसपी रोहित सिंह सजवान भी मौके पर पहुंचे। दाेनों अधिकारियों ने नेपाली नागरिकों से भारत में चलने का आग्रह किया। अधिकारियों ने कहा कि जब तब  उन्हें नेपाल में प्रवेश नहीं मिलता है उनके रहने- खाने की पूरी व्यवस्था भारत द्वारा की जाएगी, लेकिन नेपाली नागरिक इस आश्वासन पर तैयार नहीं हुए। कोरोना वायरस को लेकर भारत नेपाल सीमा सील है। नेपाल सरकार ने भारत से आने वाले अपने देश के नागरिकों पर भी पाबंदी लगा दी है। सीमा पर फंसे लोगों का कहना है कि जब हमें भारत सरकार ने नेपाल बार्डर तक पहुंचा दिया तो हमारी सरकार क्यों प्रवेश नहीं दे रही है। डीएम डा. उज्ज्वल कुमार का कहना है कि नेपाल के अधिकारियों से बात कर सीमा पर जारी गतिरोध को समाप्त करने का प्रयास किया जा रहा है।