विकासखंड कुठौंद मैं तीन ग्राम पंचायत की गौशालाओं का किया गया औचक निरीक्षण पशु चिकित्सालय टीम द्वारा

विकासखंड कुठौंद मैं  तीन ग्राम पंचायत की गौशालाओं का किया गया औचक निरीक्षण पशु चिकित्सालय टीम द्वारा

कुठौंद (जालौन):-विकासखंड कुठौं

द के ग्राम वाबली, सि लुआ जागीर और कुरौली ग्राम पंचायत की तीनों गौशालाओं में पशु चिकित्सालय कुठौंद के साथ आए लखनऊ से केपी सिंह उप मुख्य पशु चिकित्साधिकारी ने सबसे पहले सुबह 6:20 पर बावली गौशाला का औचक निरीक्षण किया जहां पर तमाम खामियां देखने को मिली जैसे ही चिकित्सालय की टीम गौशाला के अंदर प्रवेश हुई तो उसमें केवल 12 गाय छल्ले लगी हुई बंधी हुई थी

उसके बाद में ग्राम प्रधान से पूछा गया की और अन्य गोवंश कहां है तो ग्राम प्रधान ने बताया कि गोवंश चरने चले गए , करीब आधे घंटे बाद ग्राम प्रधान ने इधर-उधर से प्रवासी गोवंश को इकट्ठा करवा कर गौशाला के अंदर गोवंश को अंदर किया जिसमें कुल मिलाकर 70 के लगभग गोवंश मौजूद हुए लेकिन उसमें टैग लगी हुये गोवंश 34 मिले इसके साथ ही बावली गौशाला में 120 गौवंश के चारा भुशा का भुगतान कराना चाहते थे।

लेकिन जांच में बाकी गोवंश के बारे में पूंछा गया तो ग्राम प्रधान जवाब नहीं दे पाए ,वहीं उपस्थिति ग्रामीणों में संजू ,मनोज ,बृजेन्द्र आदि ने बताया जांच अधिकारी को लगभग दो दर्जन गोवंश मर गए है , जिसको ग्राम प्रधान ने इसी गोशाला के अंदर मृत गोवंश को दबा दिया गया है ।

कुरौली और सिलाउजगीर दोनों ग्राम पंचायत की गोशाला में बावली की तरह ही हकीकत देखने को मिली जिसमें कुरोली में लगभग 35 कुल गोवंश थे और उसमें केवल 15 टैग छल्ले लगे हुए गोवंश जांच में पाए गए ,वहीं भूसा प्राथमिक पाठशाला कुरौली में ग्राम प्रधान ने भूसा भरा कर रखा है ,इसकी सूचना क्या बेशिक शिक्षा अधिकारी को अभी स्कूल के तरफ से क्या नहीं दी गई है।

इसके बाद तीसरी गौशाला सिलुवा जागीर में 27 लगभग गोवाबंश ग्राम प्रधान दिखा पाए उसमें 13 मात्र टैग छल्ले वाले गोवंश थे ।

आखिर गोवंश के चारा भूसा के रुपयों के साथ-साथ गोबर की खाद व गोवंश के दूध आदि सभी में ग्राम प्रधान व सचिव मिलकर जबरदस्त भ्रष्टाचार करने में लगे हुए हैं अगर इनका सहयोग पशु चिकित्सा अधिकारी द्वारा नहीं किया जाता है।

तो पशु चिकित्सा अधिकारी पर दबंगई दिखाकर और भ्रष्टाचार का आरोप लगाकर , कैसे भी चारा भूसा का फर्जी पैसा निकलवाने का प्रयास किया जाता है अब देखना है कि आज की जांच में क्या कार्रवाई होती है जबकि सभी गौशाला जांच अधिकारी मैं जांच करके आगे कार्रवाई करने का आश्वासन दिया ग्रामीणों को जिससे कि ग्रामीणों को अपनी फसल सुरक्षित रखने में सहयोग मिलेगा ।