शासन की प्राथमिकता के कार्यों में लापरवाही नहीं होगी बर्दाश्त:डीएम

शासन की प्राथमिकता के कार्यों में लापरवाही नहीं होगी बर्दाश्त:डीएम

उरई।उत्तर प्रदेश के विकास प्राथमिकता 37 प्रपत्रों पर योजनाओं की प्रगति मासान्त माह दिसम्बर 2020 की मासिक समीक्षा बैठक जिलाधिकारी डा0 मन्नान अख्तर की अध्यक्षता में विकास भवन सभागार में सम्पन्न हुई। बैठक में सर्वप्रथम जिलाधिकारी महोदय द्वारा लघु सिंचाई के अन्तर्गत चैकडेमों के निर्माण की जानकारी की जिसमें बताया गया कि पाँच चैकडेमों पर कार्य पूर्ण हो गया है, अवशेष बजट प्राप्त होने पर पूर्ण कर लिया जायेगा। उन्होने सिंचाई विभाग की समीक्षा करते हुये जानकारी की कि नहरों में टेल तक पानी पहुचने हेतु नहरों की सफाई की अद्यतन स्थिति की जानकारी की जिसमें बताया गया कि लक्ष्य के सापेक्ष कार्य पूर्ण कर लिये गये है जिस पर जिलाधिकारी महोदय ने नहरों की सफाई कार्यो की अद्यतन सूची उपलब्ध कराये जाने के निर्देश दिये। उन्होने विधुत विभाग की समीक्षा के दौरान जानकारी की कि विभागों द्वारा विधुत बकायों के भुगतान किन-किन विभागों द्वारा अभी बाकी है जिस पर अधिशाषी अभियन्ता विधुत द्वारा बताया गया कि अभी कुछ विभागों द्वारा बजट के अभाव में विधुत बकाया देय नही हो पा रहा है जिस पर मुख्य विकास अधिकारी द्वारा निर्देशित किया गया कि बजट हेतु जिलाधिकारी के माध्यम से पत्र शासन को भेजे जिससे बजट शीघ्र प्राप्त हो जाये। उन्होने विभिन्न नयी सड़कों के निर्माण के संबंध में जानकारी की जिसमें अधिशाषी अभियन्ता लोक निर्माण विभाग द्वारा बताया गया कि निर्माण कार्य चल रहा है तथा मार्च तक कार्य पूर्ण कर लिये जायेगे। जिलाधिकारी महोदय द्वारा सेतु निगम निर्माण कार्यो की समीक्षा की जिसमें कार्यो की प्रगति धीमी पाये जाने पर कड़ी नाराजगी जाहिर करते हुये अधिशाषी अभियन्ता सेतु निगम को स्पष्टीकरण दिये जाने के निर्देश दिये। उन्होने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, किसान सम्मान निधि योजना आदि की भी समीक्षा की जिस पर उप कृषि निदेशक द्वारा विस्तार से अवगत कराया गया। जिलाधिकारी महोदय द्वारा पशुओं के टीकाकरण एवं जियो टैगिंग के संबंध में भी जानकारी की जिस पर मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी द्वारा बताया गया कि बजट प्राप्त होते ही टीकाकरण की कार्यवाही शुरू कर दी जायेगी। उन्होने आयुष्मान भारत योजना, परिवार नियोजन, टीकाकरण तथा अन्य कार्यो के बिन्दुवार समीक्षा की जिस पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी द्वारा अवगत कराया गया। जिलाधिकारी द्वारा शौचालय निर्माण की प्रगति के संबंध में भी जानकारी की तथा कुछ शौचालय निर्माणाधीन जिसकी गुणवत्ता ठीक न पाये जाने पर कहा कि जो भी शौचालय बनाये जाये उसकी गुणवत्ता ठीक होनी चाहिये। कायाकल्प के अन्तर्गत कार्यो की प्रगति की समीक्षा की गयी जिसके अन्तर्गत किये गये कार्यो की प्रगति धीमी पाये जाने पर कार्यो में प्रगति लाये जाने के निर्देश दिये। अमृत योजना के अन्तर्गत पार्को के सौन्दरीकरण की जानकारी की गयी जिस पर अधिशाषी अधिकारी द्वारा अवगत कराया गया कि पांच पार्को का सौन्दरीकरण किया जा रहा है तथा अवशेष कार्य शीघ्र पूर्ण कर लिये जायेगे। प्रधानमंत्री आवास शहरी एवं ग्रामीण के कार्यो की भी समीक्षा की जिस पर संबंधित अधिकारी द्वारा प्रगति कार्यो की अद्यतन स्थिति की जानकारी दी। जिलाधिकारी द्वारा प्रधानमंत्री सड़क निर्माण योजना के अन्तर्गत सड़कों के निर्माण कार्य में प्रगति धीमी पाये जाने पर संबंधित अधिकारी को कार्यो में तेजी लाये जाने के कड़े निर्देश दिये। उन्होने राष्ट्रीय ग्रामीण पेयजल मिशन योजना के अन्तर्गत हर घरों में पानी की आपूर्ति के संबंध में जानकारी की जिस पर संबंधित अधिकारी द्वारा प्रत्येक घरों में पानी के कनेक्शन दिये गये है जिस पर जिलाधिकारी महोदय द्वारा सूची उपलब्ध कराये जाने के निर्देश दिये। उन्होने औद्यानिक मिशन, सामूहिक विवाह योजना, छात्रवृत्ति, शहरी अनुदान योजना आदि की गहन समीक्षा की जिस पर संबंधित अधिकारी द्वारा अवगत कराया गया। उन्होने कौशल विकास मिशन, रोजगार सृजन तथा श्रम रोजगार योजना के अन्तर्गत श्रमिकों के पंजीयन तथा उनके चिकित्सीय लाभ दिये जाने की भी जानकारी की जिस पर संबंधित अधिकारी द्वारा विस्तार से अवगत कराया गया। आज की बैठक में जिलाधिकारी महोदय द्वारा सभी विभागों के प्र्रगति के बिन्दुवार समीक्षा की तथा जिन विभागों द्वारा प्रगति धीमी पायी गयी उन्हे कड़े निर्देश देते हुये कहा कि अगली बैठक में कार्यो की प्रगति शत प्रतिशत की जाये। इस कार्य में किसी भी प्रकार की शिथिलता एवं लापरवाही क्षम्य नही होगी।
बैठक में मुख्य विकास अधिकारी डा0 अभय कुमार श्रीवास्तव, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा0 ऊषा सिंह अहिरवार, परियोजना निदेशक डी0आर0डी0ए0 शशिकान्त द्विवेदी, वनाधिकारी अंकेश कुमार श्रीवास्तव, उप कृषि निदेशक आर0के0 तिवारी, उपायुक्त मनरेगा अवधेश दीक्षित सहित समस्त जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद रहे।