श्रीमदभगवद् गीता जयंती के उपलक्ष्य में जन उद्घोष सेवा संस्थान की ओर से वृहद बौद्धिक सम्मेलन किया गया आयोजन

देश को मजबूत करने के लिए पहले समाज को मजबूत होना पडेगाः पुष्पेन्द्र कुलश्रेष्ठ

 

लखनऊ। श्रीमदभगवद् गीता जयंती के उपलक्ष्य में आज जन उद्घोष सेवा संस्थान की ओर से वृहद बौद्धिक सम्मेलन का आयोजन राजभवन के सामने विश्वश्वरैया सभागार में किया गया । सम्मेलन के मुख्य अतिथि उत्तर प्रदेश के कैबिनेट कानून मंत्री बृजेश पाठक, मुख्य वक्ता प्रखर
राष्ट्रवादी महान विचारक पुष्पेन्द्र कुलश्रेष्ठ तथा अयोध्या आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निर्वाहन करने और अब मथुरा आंदोलन की नींव रखने वाले सर्वोच्च न्यायलय के वरिष्ठ अधिवकता हरिशंकर जैन एवं वरिष्ठ अधिवक्ता विष्णु जैन भी उपस्थित थे।


उपरोक्त कार्यक्रम मे वरिष्ठ अधिवक्ता हरिशंकर जैन एवं विष्णु जैन तथा जन उद्घोष सेवा संस्थान के अध्यक्ष कुलदीप तिवारी ने अपने अपने विचार रखे।

सम्मेलन में जैसे ही मुख्य वक्ता राष्ट्रवादी विचारक पुष्पेंद्र कुलश्रेष्ठ जी आगमन हुआ पूरा सभागार जय जय श्री राम भारत माता की जय वन्दे मातरम देखो देखो कौन आया शेर आया के नारों से गूंज उठा पुष्पेंद्र जी ने सभा अभिवादन स्वीकार करते हूए अपनी बात रखना प्रारंभ किया उन्होंने राजनीतिक दलों की भूमिका से लेकर राष्ट्रवादी विचारधारा के खिलाफ उठने वाली आवाजों पर तीखे प्रहार करते हुए कहा कि जिसे राजनीतिक दलों का विरोध करना है तो शौक से करें लेकिन भारत में राष्ट्र का विरोध बर्दाश्त नहीं किया जाना चाहिए।

सरकारों का विरोध करने का अधिकार
सभी को है, लेकिन राष्ट्र के विरोध का

अधिकार किसी को नहीं है। आजादी के समय एक वर्ग ने दबाव बनाकर धारा 370 बनवाई थी, जिसे हटाने का विरोध आज भी उन्हीं कुछ पार्टियों की नस्लें कर रही। आगे उन्होंने कहा कि देश को मजबूत करने के लिए पहले समाज को मजबूत होना पडेगा। सरकारें तो बदलती रहती है लेकिन समाज नहीं बदलता है। समाज को अपनी समस्याओं को सरकार के सामने प्रस्तुत करना होगा। हिन्दुत्व को मजबूत करने के लिए समाज को मजबूत और आगे आने की आवश्यकता है।
उन्होंने कहा कि बीते 70 सालों में पूर्व की सरकारों ने हिन्दुओं के प्रति कोई ध्यान नहीं दिया। इस सरकार ने हिंदुत्व को जगाया है।


जनसंख्या कानून-

जनसंख्या कानून की बात करते हुये उन्होने कहा कि कानून अगर बन जायेगा तो उसे इम्पलिमेन्ट कौन करायेगा। उन्होने कहा कि जिसके कारण जनसंख्या बढाई जा रही है वह है वोट के लिये आप डीफे्रन्चाइज करियेगा मगर आप कर नही सकते। क्योकि आप दुनिया के सबसे बडे लोकतान्त्रिक देश है। इसलिये किसी के जनसंख्या पर ध्यान देने की बजाय आप खुद उसको बढाये।

पुष्पेन्द्र कुलश्रेष्ठ के पास कोई सुरक्षा नही- देखा जाये तो अपने ओजस्वी बातो से आज पुष्पेन्द्र कुलश्रेष्ठ हिंदुओं में जनचेतना जगाने का काम तो कर रहे हैं पर इसके कारण वह कटटरपंथियो के निशाने पर भी है पर उनको सुरक्षा के नाम पर केन्द्र सरकार ने कुछ नही दिया है। इसके बाउजूद पुष्पेन्द्र कुलश्रेष्ठ केन्द्र की नीतियो को जन जन तक पहुचाने का कार्य कर रहे है एैसे मे केन्द्र सरकार को भी चाहिये कि पुष्पेन्द्र कुलश्रेष्ठ की सुरक्षा को ध्यान मे रखना चाहिये और उन्हे सुरक्षा मुहैयया करानी चाहिये। क्योकि हिन्दूओ को जगाने वाले इस धरोहर के साथ कुछ गलत हो गया तो देश की जनता केन्द्र सरकार को कभी भी माफ नही करेगी।

राष्ट्रवादी चिंतक एवं वरिष्ठ पत्रकार पुष्पेंद्र कुलश्रेष्ठ ने कहा कि लोगो को अब गीता के अध्ययन पर जोर देना चाहिये। उन्होने कहा कि जिनको राष्ट्र और समाज को चलाने मे विश्वास है उन्हे गीता पढना चाहिये वरना घर मे रहना है तो लोग रामायण का पाठ भी कर सकते है।


2016 से हिन्दूओ मे जनजागृति के उद्देश्य से निकले हिन्दूवादी फायरब्रान्ड और राष्ट्रवादी चिंतक पुष्पेन्द्र कुलश्रेष्ठ ने कहा कि अब वक्त आ गया है कि लोगो को अपने सोचने का नजरिया बदलना चाहिये नही तो राष्ट्र नही बचेगा। उन्होेने कहा कि आप घर के अन्दर क्षत्रिय,ब्राहम्ण,कायस्थ और कुछ भी हो पर जब आप दरवाजे से बाहर निकले तो अपने आप को सिर्फ हिन्दू समझे।


पुष्पेन्द्र कुलश्रेष्ठ ने कहा कि सदियो के बाद देश को एक हिन्दूवादी प्रधानमन्त्री मिला है जिस पर हम सबको गर्व होना चाहिये। उन्होने कहा हिन्दू सभ्यता मे लोगो का गला नही काटते बल्कि लोगो को गले लगाते है।

किसान आन्दोलन-किसान आन्दोलन की चर्चा करते हुये पुष्पेन्द्र कुलश्रेष्ठ ने कहा कि सरकारों का विरोध करने का अधिकार सभी को है, लेकिन राष्ट्र के विरोध का अधिकार किसी को नहीं है। सरकार के विरोध के आड़ में सड़कों पर आगजनी, पथराव, तोड़फोड़, सरकारी संपत्तियों को नुकसान, राष्ट्रविरोधी नारेबाजी, पुलिस कर्मियों पर हमला, यह राष्ट्र पर हमले जैसा है।

हाल मे बैठे लोगो पुष्पेन्द्र कुलश्रेष्ठ ने कहा कि सभी लोग सी शंकरन नायर द्वारा लिखित पुस्तक गाॅधी और अनारकी और लोहिया द्वारा लिखित पुस्तक गिल्टी मैन आॅफ इंडियाज पार्टिशन पुस्तक पढने की सलाह दी। उन्होने कहा कि इन दोनो पुस्तक को पढने से के बाद सबके दिमाग के पुर्जे खुल जायेगें।

 

370 और 35ए– 370 और 35ए की चर्चा करते हुये पुष्पेन्द्र कुलश्रेष्ठ ने कहा कि इन दोनो कानूनो के आने के बाद काश्मीर मे उन दलितो के बच्चो को जो डाक्टरी और इन्जिनियरिग कर के बैठे थे जिनको उनके अधिकार से वंचित किया गया था अब सब मिलने लगेगा। उन्होने कहा कि कुछ सदी पूर्व बक्शी गुलाम मुहम्मद ने अमृतसर और पठानकोट से 200 वाल्मिकि समाज के भाइयों को काश्मीर बुलाया था पर उस वक्त एक कानून बक्शी गुलाम मुहम्मद ने बनाया कि देश के दलितो को चाहे वह कितना भी शिक्षा क्यों ना ले ले वह बनेगा सिर्फ सफाईकर्मी ही बन सकता हैं

अब वक्त बदल गया और हर नागरिको को उसके सारे अधिकार मिलेगे।

इससे पहले प्रदेश के कानून मंत्री बृजेश पाठक ने आए सभी अतिथियों के प्रति अपना आभार व्यक्त किया।’सर्वोच्च न्यायलय के वरिष्ठ अधिवक्ता हरिशंकर जैन ने अपने सम्बोधन में कहा कि हिन्दुओं की सम्पतियों को कानून से वापस लिया जायेगा। काशी आंदोलन जल्दी शुरू होगा। जन उद्घोष सेवा संस्थान के अध्यक्ष कुलदीप तिवारी ने आए हुए सभी अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि संस्थान गत अनेक वर्षों से जनसंख्या नियंत्रण कानून व धर्म परिवर्तन पर रोक लगाने तथा जन जागरण, समाज को सांस्कृतिक एवं आध्यात्मिक रूप से सुदृढ़ करने तथा सनातन धर्म के प्रचार-प्रसार करने में प्रखरता से कार्यरत है। सम्मेलन में राज्यमंत्री सुधाकर त्रिपाठी , संगठन सचिव प्रवीण कंचन और नीति आयोग द्वारा रजिस्टर्ड सामाजिक संगठन अटल जन शक्ति संगठन के संस्थापक व राष्ट्रीय अध्यक्ष अमन नारायण अवस्थी जी व राष्ट्रीय लेवल के पदाधिकारी सहित अन्य कार्यकर्ता उपस्थित थे व अलग अलग क्षेत्र से कई हिंदूवादी नेता संगठन के कार्यकर्ता वरिष्ठ सम्मानित लोगो एवं सामजिक कार्यकर्ता, पत्रकार बन्धु भी उपस्थित रहे।


कार्यक्रम के उपरांतजन पुष्पेन्द्र कुलश्रेष्ठ जी व उद्घोष सेवा संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष कुलदीप तिवारी जी, अटल जन शक्ति संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमन नारायण अवस्थी जी के साथ अटल जन शक्ति संगठन के भविष्य में होने वाले कार्यक्रम पर मीटिंग हुई राष्ट्रीय अध्यक्ष अमन नारायण अवस्थी ने उन्होंने बताया कि आने वाले समय अटल जन शक्ति संगठन की तरफ से राष्ट्रीय कैलेंडर राष्ट्रीय दिनदर्शिका कैलेंडर का प्रचार प्रसार व कैलेंडर का वितरण किया जायेगा लोगो को जागरूक करने का कार्य भी किया जायेगा,