जिला अस्पताल में मुफ्त सी. टी स्कैन की सुविधा से राहत – समय से जांच होने से जल्द शुरू हो जाता है इलाज

0
40

जिला अस्पताल में मुफ्त सी. टी स्कैन की सुविधा से राहत
– समय से जांच होने से जल्द शुरू हो जाता है इलाज

चित्रकूट ब्यूरो: किसी भी आपात स्थिति में सीटी स्कैन के लिए अब न तो बेवजह की दौड़भाग करने की जरूरत है और न ही पैसे के इंतजाम की चिंता करनी है। अब संयुक्त जिला अस्पताल में संचालित सीटी स्कैन सेंटर से लोगों को निःशुल्क सेवाएं मिल रही हैं। इस सेंटर से सीटी स्कैन कराने पर जहां ढाई से सात हजार रुपये तक की बचत हो रही है, वहीं समय से रिपोटर् मिल जाने से इलाज भी सही समय से शुरू हो पाना मुमकिन हुआ है। अब तक कुल 11404 मुफ्त सी टी स्कैन किए गए हैं। यह कहना है जिला अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. राजेश खरे का।
डॉ. खरे का कहना है कि संयुक्त जिला अस्पताल में संचालित सीटी स्कैन सेंटर से जनपद के हर जरूरतमंद मरीज को निःशुल्क सीटी स्कैन की सुविधा दी जा रही है। इस बचत वाली रकम से मरीज को अपने इलाज के अन्य खचोंर् में मदद मिल रही है। उन्होंने कहा कि प्रयास रहता है कि हर जरूरतमंद को यथाशीघ्र सीटी स्कैन सेंटर की सेवाओं का लाभ दिया जाए। इससे किसी भी आपात स्थिति में सही दिक्कत का पता चल जाने से उचित इलाज में भी सहूलियत मिल रही है।
—–कैसे मिलता है लाभ—–
सीटी स्कैन सेंटर के प्रभारी विजय बहादुर सिंह बताते हैं कि मुफ्त सी.टी स्कैन के लिए  एक निधार्रित फॉमर् दिया जाता है द्य,फामर् पर संबंधित  डॉक्टर एवं मुख्य चिकित्सा अधीक्षक के हस्ताक्षर होने के साथ ही पहचान पत्र के रूप में आधार काडर्, पैन काडर् या अन्य कोई आई. डी जमा करना होता हैप् उपरोक्त कागजात और प्रक्रिया पूरी होने के बाद सीटी स्कैन पूरी तरह से निशुल्क किया जाता हैद्य इसके एवज में किसी से कोई धनराशि नहीं ली जाती है।  उन्होंने बताया कि जिला अस्पताल में इस सुविधा की शुरुआत 10 फरवरी 2018 को हुई थी। 15 फरवरी 2022 तक कुल 11404 मुफ्त सी टी स्कैन किए गए हैं।
जिला मुख्यालय के लक्ष्मणपुरी कवीर् निवासी राजेश कुमार ने बताया कि बच्ची पावर्ती को सिर में चोट लगी थी। जिला अस्पताल इलाज कराने गए तभी चिकित्सकों ने सीटी स्कैन कराने की सलाह दी। उन्होंने जिला अस्पताल में सीटी स्कैन सेंटर से बच्ची के सिर का स्कैन मुफ्त कराया। यह बहुत ही बढ़िया है, जरूरतमंद को मौके पर सुविधा मिल जाती है और उसके पैसे भी बच जाते हैं ।
मानिकपुर तहसील के सरैंया गांव निवासी रफीक अली ने बताया कि उनके 12 वषीर्य बच्चे उवैश को डेढ़ साल से सिर ददर् की शिकायत थी द्य इसका इलाज कराने जिला अस्पताल गए तो चिकित्सक ने सीटी स्कैन कराने को कहा। बच्चे के सीटी स्कैन का उन्हे कोई शुल्क नहीं देना पडा, जिला अस्पताल की यह सुविधा अच्छी है, खासकर कमजोर वर्ग के लिए

#चित्रकूट #जालौन #आन्या_एक्सप्रेस #बुन्देलखण्ड_दस्तक #ताजा_खबरें #न्यूज_उपडेट