चक्रदार महोत्सव में कलाकारों ने दिखाई काव्य शैली का जलवा

0
42

चक्रदार महोत्सव में कलाकारों ने दिखाई काव्य शैली का जलवा

– अपनी रचनाओं से होली के पवर् का कराया अनुभव

चित्रकूट ब्यूरो: नादऑरा संस्थान दिल्ली एवं उत्तर प्रदेश संगीत नाटक अकादमी के संयुक्त तत्वावधान में बुधवार को हुए शास्त्रीय संगीत समारोह में राग-रागिनी की तरंग में लोग झूम उठे। तबला महषिर् पंडित अनोखेलाल मिश्र व पंडित छोटेलाल मिश्र की स्मृति में इस कायर्क्रम का आयोजन किया गया। कलाकारों ने अपनी रचनाओं से लोगों को होली पवर् का अनुभव कराया।
कायर्क्रम का उद्घाटन जिलाधिकारी शुभ्रांत कुमार शुक्ल ने दीप प्रज्ज्वलन कर किया। दिव्यांग विश्वविद्यालय की डॉ. ज्योति ने सरस्वती वंदना प्रस्तुत की। इसमें तबले पर डॉ. विवेक फड़नीस एवं हारमोनियम पर डॉ. गोपाल मिश्रा ने संगत की। पुणे के मनोज सोलंकी ने मृदंग वादन से मोहा। वादन में चक्रदार रचनाओं से चक्रदार महोत्सव की साथर्कता सिद्ध की। हारमोनियम पर संगत ललित सिसोदिया दिल्ली ने की। दिल्ली के शंकर बंधुओं संजीव शंकर एवं अश्वनी शंकर ने शहनाई वादन में राग मारू बिहाग की बंदिश एवं राग काफी में धुन बजाकर लोगों को संगीत रस में सराबोर किया। तबला पर डॉ. कुमार ऋषितोष एवं दुक्कड़ पर आनंद शंकर ने संगत की। बनारस के किशन रामडोहकर ने तबला वादन से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया। काशी हिंदू विश्वविद्यालय के गायन विभाग के डॉ. राम शंकर ने पंडित रामाश्रय झा रामरंग की संगीत रामायण की बंदिश से राग नट झपताल में प्रथम प्रस्तुति दी। इसमें बंदिश के बोल थे ‘‘मूल नक्षत्र दिन शुकल पख पावन,  हुलसी जायो सुवन नाम राम बोला‘‘। तत्पश्चात द्रुत तीनताल में ‘‘बंदऊ चरण कमल तुलसी के‘‘ प्रस्तुत कर लोगों को गोस्वामी जी की पावन स्मृति का अवगाहन कराया। राग काफी में ठुमरी प्रस्तुत की जिसके बोल थे ‘‘अखियां डारे गुलाल लाल नंद को री‘‘। अंत में होली के अवसर को देखते हुए होरी के पद के साथ कायर्क्रम का समापन किया गया। कायर्क्रम में नादऑरा संस्था के डा. रामशंकर,  श्री किशन रामडोहकर,  शंकर बंधु एवं डॉ. गोपाल कुमार मिश्र को संगीत के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान के लिए नाद रत्न से सम्मानित किया गया। कायर्क्रम के संयोजक डॉ. गोपाल कुमार मिश्र ने बताया कि इस कायर्क्रम का उद्देश्य कला एवं संगीत की सांस्कृतिक धरोहरों का संरक्षण, संवधर्न एवं कला प्रेमियों के बीच कलाओं के आदान-प्रदान का माध्यम बनाना है। वतर्मान में शास्त्रीय संगीत के बड़े आयोजनों के न होने से इस क्षेत्र में शास्त्रीय संगीत की उपेक्षा हुई है। इस कमी को पूरा करने के लिए ऐसे कायर्क्रमों का आयोजन किया जा रहा है। कायर्क्रम का संचालन डॉ. राजा पांडे ने किया एवं संस्था अध्यक्ष डॉ. ऋषितोष ने सभी का आभार जताया।

#बुन्देलखण्ड_दस्तक #आन्या_एक्सप्रेस
#चित्रकूट #जालौन   #ताजा_खबरें #न्यूज_उपडेट #उरई #झांसी #कानपुर #महोबा #हमीरपुर #डैली_उपडेट #ताजा_खबर #bundelkhandnews #bundelkhanddastak #बुंदेलखंडदस्तक