जिसके हृदय में भगवान बसते है, वह व्यक्ति कभी दुःखी नहीं होता- मुरलीधर

0
39

जिसके हृदय में भगवान बसते है, वह व्यक्ति कभी दुःखी नहीं होता- मुरलीधर

– रामायण मेला परिसर में चल रही श्रीराम कथा का दूसरा दिन

चित्रकूट ब्यूरो: चैत्र मास के मांगलिक अवसर पर चित्रकूट के रामायण मेला परिसर में चल रही श्रीरामकथा के दूसरे दिन कथा वक्ता संत मुरलीधर महाराज ने गोस्वामी तुलसीदास महाराज द्वारा रचित श्रीरामचरितमानस के बालकांड में वणिर्त भगवान शिव व माता पावर्ती के विवाह का प्रसंग तथा भगवान राम के जन्मोत्सव की कथा का बड़े ही हषर् और उल्लास के साथ वणर्न किया। इस दौरान कथा सुनने के लिए आए भक्तों के जयकारों से कथा पंडाल राममय हो गया। सभी श्रोता गीतावली व कवितावली के मांगलिक गीतों तथा लोक संस्कृति के विभिन्न गीतों पर श्रोता भाव-विभोर होकर खूब झूमे। एक प्रसंग के माध्यम से महाराज मुरलीधर ने बताया कि जब इस धरती पर जब ब्राह्मण, धेनु तथा संत दुःखी होते हैं, तब-तब भगवान का अवतार होता है। बताया कि जब देवताओं व मानवों ने राक्षसों के अत्याचार से दुःखी होकर भगवान से धरती पर अवतार लेने की प्राथर्ना की, तब भगवान ने दुष्ट रावण का वध करने तथा धरती को पापों से मुक्त करने के लिए धरती पर अवतार लिया। उन्होंने कहा कि जिसके हृदय में भगवान बसते है, वह व्यक्ति कभी दुखी नहीं हो सकता। इस अवसर पर भागवताचायर् सिद्धाथर् पयासी, विजय महाजन, नीलम महाजन, चंद्रकला रमेश चंद्र मनिहार, शिव कुमार कंसल, अरुण गगर्, अनिल अग्रवाल सहित भक्तजन मौजूद रहे।

#बुन्देलखण्ड_दस्तक #आन्या_एक्सप्रेस
#चित्रकूट #जालौन   #ताजा_खबरें #न्यूज_उपडेट #उरई #झांसी #कानपुर #महोबा #हमीरपुर #डैली_उपडेट #ताजा_खबर #bundelkhandnews #bundelkhanddastak #बुंदेलखंडदस्तक