पूणर्कालिक सचिव ने महिलाओं को दी उनके संरक्षण के लिए बने कानूनों की जानकारी

0
44
पूणर्कालिक सचिव ने महिलाओं को दी उनके संरक्षण के लिए बने कानूनों की जानकारी
– विधिक जागरूकता अभियान के तहत आयोजित 
किया गया महिला सशक्तिकरण कार्यक्रम
चित्रकूट ब्यूरो: राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण के निदेर्शानुसार राष्ट्रीय महिला आयोग के तत्वधान में सोमवार को तहसील सभागार कवीर् में विधिक जागरूकता अभियान के तहत महिला सशक्तिकरण कायर्क्रम आयोजित किया गया। कायर्क्रम की अध्यक्षता जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की पूणर्कालिक सचिव विदुषी मेहा ने की।
कायर्क्रम में पूणर्कालिक सचिव विदुषी मेहा ने महिलाओं को उनके संरक्षण के लिए बने कानूनों की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि महिलाओं को कायर्स्थल पर छेड़छाड़ से संरक्षण, पुरुषों के समान पारिश्रमिक, मुफ्त कानूनी सहायता, रात में गिरफ्तार न होने, कन्या भ्रूण हत्या के खिलाफ, कामकाजी महिलाओं को मातृत्व संबंधी लाभ, घरेलू हिंसा से सुरक्षा, यौन उत्पीड़न की पीड़िता का नाम सावर्जनिक न होने एवं संपत्ति में बराबरी का अधिकार दिया गया है। उन्होंने वैवाहिक विवादों के निपटारों के लिए प्री-लिटिगेशन स्तर पर प्राथर्ना पत्र प्रेषित करने व पीड़ित क्षतिपूतिर् योजना 2014 के बारे में भी विस्तृत रूप से जानकारी दी। उन्होंने बताया कि वैवाहिक विवाद से संबंधित प्राथर्ना पत्र जिला विधिक सेवा प्राधिकरण कायार्लय में अथवा जिला प्रोबेशन कायार्लय में स्थित विधिक सहायता क्लीनिक में प्रस्तुत करें। यह प्राथर्ना पत्र पति-पत्नी अथवा उनका कोई नजदीकी रिश्तेदार भी दे सकता है। इसके लिए टोल फ्री नंबर 18004 190234 एवं 15100 पर संपकर् करने के लिए भी बताया। नायब तहसीलदार कवीर् आरएन मिश्र द्वारा दैवीय आपदा एवं कृषक दुघर्टना योजना के बारे में जानकारी दी गई। कायर्क्रम में उपस्थित महिला आरक्षियों द्वारा महिला हेल्पलाइन नंबर 1090, 181 के बारे में जानकारी दी गई। महिला अधिवक्ता दमयंती श्रीवास्तव ने भी विभिन्न कानूनों के बारे में जानकारी दी और महिलाओं को अपनी आवाज उठाने के लिए प्रेरित किया। इस दौरान पूणर्कालिक सचिव द्वारा शिक्षिकाओं व आंगनबाड़ी कायर्कत्रियों को विधिक साहित्य प्रदान किया गया। इस मौके पर माध्यमिक एवं प्राथमिक विद्यालय की शिक्षिकाएं, जिला समन्वयक, आंगनवाड़ी कायर्कत्रियां सहित अन्य महिलाएं मौजूद रहीं।