दहेज हत्या के मामले में पति को 10 साल की कैद

0
38

दहेज हत्या के मामले में पति को 10 साल की कैद

– सास, ससुर व देवर को भी मिली सात साल की कैद

चित्रकूट ब्यूरो: दहेज हत्या के मामले में दोष सिद्ध होने पर न्यायालय ने मृतका के पति को 10 वषर् सश्रम कारावास की सजा सुनाई है। साथ ही मृतका के सास, ससुर और देवर को सात-सात वषर् सश्रम कारावास की सजा सुनाई गई है।
सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी गोपालदास ने बताया कि राजेन्द्र प्रसाद केशरवानी ने रैपुरा थाने में भौंरी निवासी रामेश्वर केशरवानी, अंकित केशरवानी व उनके पिता  रमाशंकर, माता शिवकुमारी के विरुद्ध धारा 498ए, 304बी व धारा 3/4 दहेज प्रतिशेध अधिनियम के तहत रिपोटर् दजर् कराई थी। वादी के अनुसार उसने अपनी पुत्री रेखा की शादी 24 फरवरी 2011 को रामेश्वर के साथ की थी। शादी में हैसियत के अनुसार चार लाख रुपया खचर् किया था, किंतु ससुराली जन ससुराल में रेखा को एक लाख रुपये दहेज की मांग को लेकर उसे प्रताड़ित करने लगे। इसकी जानकारी रेखा ने मायके में दी। जिसके बाद उसने एक बार आठ हजार व दूसरी बार 35,000 रुपये ससुराल वालों को दिया था। इसके बाद पैसा देने में असमथर्ता जाहिर की। इसके बार बीती 17 अक्टूबर 2015 को ससुराली जनों ने दहेज की मांग को लेकर रेखा को मिट्टी का तेल डालकर जला दिया। इसकी जानकारी मिलने पर वह अपनी पुत्री रेखा को जिला अस्पताल ले गया और गंभीर हालत होने पर प्रयागराज ले गया, जहां इलाज के दौरान 20 अक्टूबर को उसकी पुत्री रेखा की मृत्यु हो गई। मामले की रिपोटर् दजर् करने के बाद पुलिस ने न्यायालय में आरोप पत्र दाखिल किया था। पुलिस अधीक्षक अतुल शमार् के निदेर्श पर अपराधियों के विरुद्ध न्यायालय में सघन पैरवी रैपुरा थाना प्रभारी नागेन्द्र कुमार नागर व पैरोकार आरक्षी धनेश मिश्रा ने की थी। न्यायालय अपर सत्र न्यायाधीश एफटीसी सत्येन्द्र प्रकाश पाण्डेय ने बचाव और अभियोजन पक्ष के अधिवक्ताओं की दलीले सुनने के बाद बुधवार को निणर्य सुनाया। जिसमें दोष सिद्ध होने पर मृतका के पति रामेश्वर को 10 वषर् सश्रम कारावास और 10,000 रुपये अथर्दण्ड तथा मृतका के ससुर, रमाशंकर, सास शिवकुमारी व देवर अंकित को सात-सात साल की कठोर कारावास और 10,000 रुपये अथर्दण्ड से दण्डित किया गया।

#बुन्देलखण्ड_दस्तक #आन्या_एक्सप्रेस
#चित्रकूट #जालौन   #ताजा_खबरें #न्यूज_उपडेट #उरई #झांसी #कानपुर #महोबा #हमीरपुर #डैली_उपडेट #ताजा_खबर #bundelkhandnews #bundelkhanddastak #बुंदेलखंडदस्तक