साइबर थाना उरई ने एक आवेदक की फ्रॉड हुई धनराशि 3 लाख 7000 रुपए वापस कराई।।

साइबर थाना उरई ने एक आवेदक की फ्रॉड हुई धनराशि 3 लाख 7000 रुपए वापस कराई।।

आवेदको ने साइबर थाना उरई जालौन और अपर पुलिस अधीक्षक को दिया धन्यवाद ।।

उरई (जालौन ) एक आवेदक की धोखाधड़ी कर बैंक से फ्रॉड धनराशि निकल गई। जिसको साइबर थाना उरई जालौन ने आवेदक से उपलब्ध कराए गए बैंक स्टेटमेंट और जानकारियां व प्रभावी कार्रवाई करते हुए एजेंसियों से संपर्क करके 3 लाख 7000 रूपये जो की इनके के साथ ठगी हुई थी। उनकी धनराशि उनके बैंक खातों में वापस कराई। जिसके चलते लोगो ने अपर पुलिस अधीक्षक असीम चौधरी की प्रशंसा की।
बता दें कि कुछ दिन पूर्व पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुंचकर आवेदक भगवती शरण गुप्ता ने प्रार्थना पत्र देकर बताया था कि उनके खाते से 3,07000 रुपये फ्रॉड करके निकल गए हैं।
ऑनलाइन धोखाधड़ी करके उनकी धनराशि खाते से गायब कर दी गई है। इसका प्रार्थना पत्र उन्होंने पुलिस अधीक्षक डॉ ईरज राजा को दिया था। जिस पर उन्होंने मामले को संज्ञान में लेते हुए। इस मामले को साइबर थाना उरई में सौंप दिया था। जिसके चलते साइबर थाना जालौन के साइबर क्राइम टीम के प्रभारी संजय सिंह यादव व साइबर क्राइम अतिरिक्त प्रभारी नरेंद्र कुमार गौतम और हमराहियों में साइबर एक्सपर्ट वीर विक्रम सिंह, आलोक कुमार,ने मिलकर शुक्रवार को आवश्यक कार्रवाई करते हुए अभियान चलाया और आवेदको द्वारा उपलब्ध कराए गए बैंक स्टेटमेंट व अवलोकन व तकनीकी विश्लेषण कर तुरंत प्रभावी कार्रवाई करते हुए वित्तीय एजेंसियों, बैंक, बैलेंटो आदि से संपर्क कर आवेदकों की संपूर्ण धनराशि सफलतापूर्वक उनके खातों में वापस कराई। अपनी धनराशि वापस पीड़ितों के चेहरों पर मुस्कान लौट आई और उन्होंने पुलिस व साइबर क्राइम सेल की टीम की भूरि भूरि प्रशंसा की। साइबर थाना उरई जालौन के साइबर क्राइम टीम प्रभारी निरीक्षक संजय सिंह यादव, अतिरिक्त नरेंद्र कुमार गौतम, वीर विक्रम सिंह, आलोक यादव, कृष्ण वीर इंदौलिया, अरिहंत दुबे शामिल रहे।