कलेक्ट्रेट में सखी वन स्टाफ सेंटर का निरीक्षण एवं जिला जेल में विधिक साक्षरता शिविरकाहुआआयोजन।।

कलेक्ट्रेट में सखी वन स्टाफ सेंटर का निरीक्षण एवं जिला जेल में विधिक साक्षरता शिविरकाहुआआयोजन।।

उरई (जालौन) उरई: जालौन में आज जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव/अपर जिला जज महेन्द्र कुमार रावत द्वारा जिला कलैक्ट्रेट परिसर उरई में स्थित सखी वन स्टाप सेन्टर का निरीक्षण एवं जिला कारागार उरई में विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन तथा सभी बैरिकों का निरीक्षण किया गया। जिला विधिक सेवा प्राधिकारण अध्यक्ष एवं जनपद न्यायाधीश लल्लू सिंह के निर्देशन में सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा आयोजित शिविर में उपस्थित सिद्धदोष,
विचाराधीन बन्दियों को महत्वपूर्ण कानूनी जानकारी प्रदान की गयी।
सर्वप्रथम जिला कलैक्ट्रेट परिसर उरई में स्थित सखी वन स्टाप सेन्टर का निरीक्षण किया गया जिसमें वहां की समस्त व्यवस्थाओं का अवलोकन किया गया। सेन्टर में उपस्थित मनो. सहा. परामर्शदात्री श्रीमती रागिनी को सेन्टर की व्यवस्थाओं एवं गर्मी के मौसम को देखते हुये कूलर आदि की व्यवस्था करने के लिये निर्देशित किया गया। इसके उपरान्त जिला कारागार उरई में विधिक जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में सचिव महेन्द्र कुमार रावत ने गिरफ्तारी के समय बन्दियों के अधिकारी, प्ली-वार्गेनिंग स्कीम, समयपूर्व रिहाई और बन्दियों के अधिकारों के सम्बन्ध में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने बताया कि यदि कोई विचाराधीन बन्दी अधिकतम 07 वर्ष तक की सजा के मामलों में विचाराधीन है, तो जिन्होंने सजा के तौर पर कुछ अवधि जेल में बिता ली हो, वह पीड़ित पक्ष से समझौता कर उसे उचित मुवायजा देकर अपनी सजा न्यायालय से कम करा सकते है, लेकिन इस योजना का लाभ उनको नहीं मिलेगा जिन्होंने देश के विरूद्ध, महिलाओं एवं बच्चों के विरूद्ध अथवा आर्थिक अपराध किया हो।
इस कार्यक्रम के उपरान्त विचाराधीन बन्दियों की समस्याओं के निराकरण हेतु और उनको विधिक सहायता पहुंचाने के लिये जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव महेन्द्र कुमार रावत ने जिला कारागार उरई की सभी बैरिकों का निरीक्षण किया। वहां निरूद्ध विचाराधीन बन्दियों से वार्ता की और उनकी समस्याओं के निराकरण हेतु जिला कारागार प्रशासन को आवश्यक दिशा-निर्देश दिये। इस कार्यक्रम में असिस्टेंट लीगल एड डिफेन्स काउन्सिल श्री अभिषेक पाठक ने लीगल एड डिफेन्स काउन्सिल से सम्बन्धित समस्त योजनाओं के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी दी।
इस मौके पर कारागार अधीक्षक नीरज देव, जेल चिकित्सक डॉ. राहुल वर्मन, उपकारापाल श्री तारकेश्वर सिंह व श्री अमर सिंह, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के कनिष्ठ लिपिक शुभम् शुक्ला समेत सिद्धदोष, विचाराधीन बन्दी उपस्थित रहे।