फाइलेरिया उन्मूलन अभियान में प्रधान दवा खाकर एमडीए कार्यक्रम का शुभारंभ करेंगे।।

 

10 फरवरी से 28 फरवरी तक चलने वाले एमडीए(सर्वजन दवा सेवन) अभियान में प्रधान जनता को दवा सेवन के प्रति करेंगे जागरूक !!

रामपुरा (जालौन):-10 फरवरी से शुरू होने वाले फाइलेरिया उन्मूलन अभियान के दौरान प्रधान भी जनता को जागरूक करेंगे। राष्ट्रीय फाइलेरिया उन्मूलन कार्यक्रम के तहत ब्लाक रामपुरा के सभागार में फाइलेरिया रोग की जन जागरूकता को लेकर एडीओ पंचायत रामपुरा भारत सिंह की अध्यक्षता में समस्त प्रधानों की बैठक आयोजित की गई।इस मौके पर आगामी 10 फरवरी से शुरू होने वाले सर्वजन दवा सेवन अभियान (एमडीए ) के विषय में विस्तृत चर्चा की गई।
इस दौरान सुनील गुप्ता डीएमसी पीसीआई संस्था ने बताया कि प्रधान समाज के पथ प्रदर्शक होते हैं। उनके द्वारा दी जानेवाली जानकारी एवम संदेश जनमानस आत्मसात करते हुए महत्व देता है। इस बार भी फाइलेरिया उन्मूलन के लिए चलाए जाने वाले सर्वजन दवा सेवन कार्यक्रम में इनकी महती भूमिका होगी। समाज में फैली भ्रांतियों के प्रति लोगों को जागरूक करेंगे व दवा सेवन हेतु सभी को प्रेरित करने की अपील करेंगे। उन्होने उपस्थित प्रधानों को बताया कि फाइलेरिया एक लाइलाज बीमारी है। इससे बचाव के लिए पांच साल तक लगातार साल में एक बार फाइलेरिया रोधी दवा का सेवन करना अनिवार्य है।यह दवा खाली पेट नहीं खानी है। दो वर्ष से अधिक उम्र के सभी लोगों को (गर्भवती और अति गंभीर बीमार लोगों को छोड़ कर) दवा खानी है ।एमडीए अभियान में एक से दो वर्ष के आयु वर्ग के बच्चों को भी पेट के कीड़े मारने की दवा खिलाई जाएगी ।
इस मौके पर बीसीपीएम विनय चतुर्वेदी रामपुरा ने सभी प्रधानों से अपील की कि इस अभियान का शुभारंभ स्वयं डीए के सामने दवा खाकर करें। इसके बाद अपने स्कूल के बच्चों,आस-पास के लोगों व गांव के अन्य वाशिंदों को डीए की उपस्थिति में दवा खाने के लिए प्रेरित करें। याद रहें यह दवा किसी को खाली पेट नहीं खानी है। दवा खाने के बाद किसी-किसी को जी मिचलाना,चक्कर या उल्टी आना,सिर दर्द,खुजली की शिकायत हो सकती है,ऐसे में घबराने की जरूरत नहीं है। यह एक सामान्य प्रक्रिया है। ऐसा शरीर में फाइलेरिया के परजीवी होने से हो सकता है, जो दवा खाने के बाद मरते हैं। ऐसी प्रतिक्रिया कुछ देर में स्वतः ठीक हो जाती है फिर भी हमारे टीम के साथ तत्काल देखने के लिए सी एच ओ भी मौजूद रहेंगे।
फाइलेरिया निरीक्षक आशुतोष बाजपेई ने भी प्रधानों से निवेदन किया कि ज्यादा से ज्यादा लोगों को दवा सेवन के लिए प्रेरित करें ताकि ऐसी असाध्य बीमारी से आम जनमानस का बचाव किया जा सकें। क्योंकि फाइलेरिया एक गंभीर एवम लाईलाज बीमारी है और इससे बचने का एकमात्र उपाय समय रहते हुए फाइलेरिया रोग से बचाव की दवा का सेवन पहले ही करना है जिससे कि समय रहते फाइलेरिया रोग होने से बचाव किया जा सके।फाइलेरिया रोधी दवा का सेवन एक वर्ष के बच्चों, गर्भवती और अति गंभीर बीमार को छोड़कर सभी को करना है।

इस मौके पर एडीओ पंचायत भारत सिंह ने उपस्थित प्रधानो को 10 फरवरी से संचालित होने वाले फाइलेरिया उन्मूलन अभियान के सफल क्रियान्वयन हेतु सहयोग दिए जाने हेतु निर्देशित भी किया।
इस दौरान समस्त प्रधानों ने भी अभियान के सफल क्रियान्वयन हेतु अपना सम्पूर्ण योगदान देने का आश्वासन दिया । कार्यक्रम में सचिव एवम प्रधानों में प्रधान टीहर प्रदीप कुमार गौरव,मिर्जापुर प्रधान रामशंकर पाल, धरमपुरा से अवनीश कुमार, पचोखरा प्रधान देवेंद्र कुमार,प्रधान हुकुमपुरा भोदल सिंह, रामपुर देहात प्रधान ओमप्रकाश, बाबूपुरा प्रधान प्रहलाद, गोरा चिरैया प्रधान मुकेश शिवहरे, हनुमंतपुरा प्रधान अरविंद कुमार आदि सहित समस्त प्रधान बंधुओ ने प्रतिभाग किया!