मुख्यमंत्री ने नवनियुक्त अध्यापकों को ऑनलाइन नियुक्ति पत्र वितरित किया

0

चित्रकूट- मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश सरकार ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से द्वितीय चरण में परिषदीय प्राथमिक विद्यालयों के लगभग 36 590 नवनियुक्त अध्यापकों को ऑनलाइन नियुक्ति पत्र का वितरण किया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मैं नवनियुक्त शिक्षकों को हार्दिक बधाई देता हूं बेसिक शिक्षा परिषद बड़ी चुनौती के साथ 69 हजार शिक्षकों की नियुक्ति पत्र देकर एक सराहनीय कार्य किया है यह भर्ती न्यायालयों से विजय प्राप्त करके आज पारदर्शी तरीके से भर्ती कर नियुक्ति पत्र वितरण किया जा रहा है विद्यालयों में शिक्षकों की कमी है जिससे पठन-पाठन में समस्या होती थी शिक्षा के क्षेत्र में प्रदेश को अग्रणी राज्यों पर लेकर जाएं यह समस्या थी बेसिक शिक्षा परिषद में कोविड-19 को देखते हुए यह नियुक्ति प्रक्रिया की गई।

उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार के 3 वर्ष के कार्यकाल में 50 लाख से अधिक बालक बालिकाएं परिषदीय विद्यालयों में प्रवेश लिया है विद्यालयों पर हमारी सरकार के पहले कोई भी सरकारी बच्चों के प्रति ध्यान नहीं दिया था हमारी सरकार की मंशा स्पष्ट है कि बच्चों को सभी सुविधाएं मुहैया कराएं मिशन प्रेरणा, दीक्षा पोर्टल के माध्यम से शिक्षा को बढ़ावा दिया जा रहा है आज जो नियुक्ति पत्र दे रहे हैं वह डेढ़ वर्ष से पहले दिया जाना था।

लेकिन समस्याओं के कारण नहीं हो पाया जन सहभागिता के माध्यम से मिलकर व्यापक पैमाने पर विद्यालयों का ऑपरेशन कायाकल्प किया गया उसमें विद्यालय व क्लास को आदर्श बनाया गया शिक्षा के क्षेत्र में काफी परिवर्तन आया है प्रदेश के अंदर 39 792 पुरुष तथा 28075 महिलाओं का चयन हुआ है जिसमें 6675 शिक्षामित्रों का चयन किया गया है पारदर्शी तरीके से शिक्षामित्रों को भी मौका मिला है।

आप लोग पारदर्शी तरीके से क्षमता के साथ शिक्षा के स्तर को बढ़ाएं मैं सभी नवनियुक्त शिक्षकों से अपील कर रहा हूं प्रधानमंत्री ने कोविड-19 के कालखंड में रोजगार कार्यक्रम लागू कर पूरे देश व प्रदेश को लाभान्वित कराया है उन्होंने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों से कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति के प्रारूप को नवनियुक्त शिक्षकों को अध्ययन अवश्य कराएं शिक्षा को हम एक दायरे तक सीमित नहीं रख सकते हैं शिक्षा का स्तर असीमित है नई तकनीकी के साथ शिक्षा के क्षेत्र में कुछ न कुछ वर्ष में होते रहना चाहिए बच्चों के मन में स्कूल के प्रति उत्साह भरे उसे डराएं धमकाएं नहीं एक नया कार्यक्रम लागू करें नहीं तो स्कूल चलो अभियान सफल नहीं होगा।

विद्यालय खुल नहीं रहे ऑनलाइन पढ़ाई कराई जा रही है लेकिन हर गांव के माता-पिता के पास स्मार्टफोन और टेबलेट नहीं है और न वह पढ़े लिखे हैं इस पर भी नई चुनौती के साथ ध्यान देने की जरूरत है विद्यालयों में साफ-सफाई अच्छी तरीके से रहे बैठने की व्यवस्था, पेयजल, शौचालय आदि व्यवस्थाएं लागू की जाए ताकि आगे आने वाले समय में जब विद्यालय खुले तो बच्चों को शिक्षा का माहौल बन सके कोविड-19 के बचाव और रोकथाम के बारे में शिक्षक अभिभावकों को बताएं प्रदेश के अंदर लगभग साढे तीन लाख युवा बेरोजगारों को रोजगार विभिन्न सरकारी विभागों में दिया गया है।

बेसिक शिक्षा विभाग अपने-अपने जनपदों पर पारदर्शिता के साथ विद्यालयों को नवनियुक्त शिक्षकों को आवंटित करें कहीं से कोई समस्या व शिकायत नहीं मिलनी चाहिए। मुख्यमंत्री ने विभिन्न जनपदों के नवनियुक्त शिक्षकों से भी वार्ता किया और कहा कि योग्य शिक्षक के रूप में बच्चों को पढ़ाई में कड़ी मेहनत करके शासन की मंशा के अनुरूप कार्य करें बेसिक शिक्षा में पढ़ाने से बच्चों की नींव मजबूत होती है।

जितना आप लोग मेहनत से बच्चों को पढ़ाएंगे तो देश की नींव मजबूत होगी बेसिक शिक्षा परिषद में शिक्षक होना सौभाग्य की बात है जिस तरह बच्चों को आप लोग नींव डालेंगे उसी मजबूती के साथ बच्चे आगे बढ़ेंगे उन्होंने कहा कि आज प्रदेश के सभी जनपदों में प्रभारी मंत्री, सांसद, विधायक गणों द्वारा नियुक्ति पत्र दिया जा रहा है मैं सभी को बधाई देता हूं।

एनआईसी चित्रकूट में वीडियो कांफ्रेंसिंग के दौरान सांसद बांदा/ चित्रकूट आरके सिंह पटेल, विधायक आनंद शुक्ला, मुख्य विकास अधिकारी अमित आसेरी ने पांच नवनियुक्त शिक्षकों को नियुक्ति पत्र प्रदान कर शुभकामनाएं दी।

कार्यक्रम के दौरान जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ओमकार राणा, सांसद प्रतिनिधि शक्ति प्रताप सिंह तोमर, भारतीय जनता पार्टी के राजेश जायसवाल,सुरेश अनुरागी सहित संबंधित अधिकारी व नव नियुक्त शिक्षक मौजूद रहे।

तत्पश्चात सांसद, विधायक व मुख्य विकास अधिकारी ने रामभद्राचार्य दिव्यांग विश्वविद्यालय सीतापुर चित्रकूट के सभागार में नवनियुक्त शिक्षकों को नियुक्ति पत्र का वितरण भी किया ।