दैनिक राशिफल 17 जून 2020

आचार्य पँ० पुष्पेन्द्र कुमार द्विवेदी ज्योतिष कर्मकांड एवं वास्तु विशेषज्ञ
सम्पर्क सूत्र – 7800868289
9260981854
[email protected]
पुण्य लाभ के लिए औरों को भी जरूर भेझे🙏🏻

🌞 ~ *आज का हिन्दू पंचांग* ~ 🌞
⛅ *दिनांक 17 जून 2020*
⛅ *दिन – बुधवार*
⛅ *विक्रम संवत – 2077 (गुजरात – 2076)*
⛅ *शक संवत – 1942*
⛅ *अयन – उत्तरायण*
⛅ *ऋतु – ग्रीष्म*
⛅ *मास – आषाढ़ (गुजरात एवं महाराष्ट्र अनुसार ज्येष्ठ)*
⛅ *पक्ष – कृष्ण*
⛅ *तिथि – एकादशी सुबह 07:50 तक तत्पश्चात द्वादशी*
⛅ *नक्षत्र – अश्विनी सुबह 06:04 तक तत्पश्चात भरणी*
⛅ *योग – अतिगण्ड दोपहर 02:25 तक तत्पश्चात सुकर्मा*
⛅ *राहुकाल – दोपहर 12:28 से दोपहर 02:09 तक*
⛅ *सूर्योदय – 05:58*
⛅ *सूर्यास्त – 19:21*
⛅ *दिशाशूल – उत्तर दिशा में*
⛅ *व्रत पर्व विवरण – योगिनी एकादशी*
💥 *विशेष – हर एकादशी को श्री विष्णु सहस्रनाम का पाठ करने से घर में सुख शांति बनी रहती है lराम रामेति रामेति । रमे रामे मनोरमे ।। सहस्त्र नाम त तुल्यं । राम नाम वरानने ।।*
💥 *आज एकादशी के दिन इस मंत्र के पाठ से विष्णु सहस्रनाम के जप के समान पुण्य प्राप्त होता है l*
💥 *एकादशी के दिन बाल नहीं कटवाने चाहिए।*
💥 *एकादशी को चावल व साबूदाना खाना वर्जित है | एकादशी को शिम्बी (सेम) ना खाएं
💥 *जो दोनों पक्षों की एकादशियों को आँवले के रस का प्रयोग कर स्नान करते हैं, उनके पाप नष्ट हो जाते हैं।*
🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~*

🌷 *जानिये दीपक जलाने की सही विधि, पाईए शुभ लाभ*
🔥 *दीपक की बत्ती या लौ पूर्व दिशा की ओर रखने से आयुवृद्धि, पश्चिम की ओर दुःखवृद्धि, दक्षिण की ओर हानि और उत्तर की ओर रखने से धन-लाभ होता है | लौ दीपक के मध्य में रखना शुभ फलदायी है |*
🔥 *इसी प्रकार दीपक के चारों ओर लौ प्रज्वलित करना भी शुभ है किंतु यदि लौ की संख्या सम ( २,४,६ ….) हो तो ऊर्जा-वहन की क्रिया रुक जाती है | लौ की संख्या विषम (१,३,५ ….) रखना लाभदायक है |*
🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞

🌷 *प्रदोष व्रत* 🌷
🙏🏻 *हिंदू पंचांग के अनुसार, प्रत्येक महिने की दोनों पक्षों की त्रयोदशी तिथि पर प्रदोष व्रत किया जाता है। ये व्रत भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए किया जाता है। इस बार 18 जून, गुरुवार को प्रदोष व्रत है। इस दिन भगवान शिव की विशेष पूजा की जाती है। प्रदोष पर व्रत व पूजा कैसे करें और इस दिन क्या उपाय करने से आपका भाग्योदय हो सकता है, जानिए…*
👉🏻 *ऐसे करें व्रत व पूजा*
🙏🏻 *- प्रदोष व्रत के दिन सुबह स्नान करने के बाद भगवान शंकर, पार्वती और नंदी को पंचामृत व गंगाजल से स्नान कराएं।*
🙏🏻 *- इसके बाद बेल पत्र, गंध, चावल, फूल, धूप, दीप, नैवेद्य (भोग), फल, पान, सुपारी, लौंग, इलायची भगवान को चढ़ाएं।*
🙏🏻 *- पूरे दिन निराहार (संभव न हो तो एक समय फलाहार) कर सकते हैं) रहें और शाम को दुबारा इसी तरह से शिव परिवार की पूजा करें।*
🙏🏻 *- भगवान शिवजी को घी और शक्कर मिले जौ के सत्तू का भोग लगाएं। आठ दीपक आठ दिशाओं में जलाएं।*
🙏🏻 *- भगवान शिवजी की आरती करें। भगवान को प्रसाद चढ़ाएं और उसीसे अपना व्रत भी तोड़ें।उस दिन ब्रह्मचर्य का पालन करें।*
👉🏻 *ये उपाय करें*
*गुरुवार की सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि करने के बाद तांबे के लोटे से सूर्यदेव को अर्ध्य देें। पानी में आकड़े के फूल जरूर मिलाएं। आंकड़े के फूल भगवान शिवजी को विशेष प्रिय हैं । ये उपाय करने से सूर्यदेव सहित भगवान शिवजी की कृपा भी बनी रहती है और भाग्योदय भी हो सकता है।*

🌞 *~* *पंचक*
*10 जून मध्यरात्रि बाद 3.40. से*
*15 जून मध्यरात्रि बाद 3.18 बजे तक!*

*एकादशी:*
*जून 2, मंगलवार, निर्जला एकादशी, ज्येष्ठा, शुक्ला एकादशी*
*शुरू – 14:57, जून 01.*
*खत्म – 12:04, जून 02.*

*प्रदोष व्रत जून 3, 2020, बुधवार,*
*ज्येष्ठ, शुक्ल त्रयोदशी*
*आरंभ- 09:05 AM, जून 03 और समाप्ति- 06:06 AM, जून 04.*

*प्रदोष व्रत जून 18, 2020, गुरुवार*
*आषाढ़, कृष्ण त्रयोदशी*
*आरंभ- 09:39 AM, जून 18 और समाप्ति- 11:01 AM, जून 19.*

*अमावस्या:*
*21 जून 2020 रविवार, को आषाढ़ अमावस्या पड़ रही है। यह अमावस्या 20 जून सुबह 11 बजकर 52 मिनट से आरंभ होकर अगले दिन 21 जून सुबह 12 बजकर 10 मिनट पर समाप्त होगी।*

*पूर्णमासी:*
*5. जून 3:15 AM से*
*6. जून 12:42 AM तक*
*(व्रत पूर्णमासी, 5. जून 2020.)*

मेष राशि

शिक्षा या धन से जुड़ा कोई महत्वपूर्ण निर्णय लेंगे. घर बैठकर आगे की शिक्षा से जुड़ी प्लानिंग कर पाएंगे. अगर किस प्रकार का कर्ज़ है तो उससे मुक्ति पाना से जुड़े तमाम उपाय करेंगे.

2- वृष राशि

किसी संबंध को लेकर मन में हताशा या फिर विश्वासघात जैसा भाव आएगा. हो सकता है कि पूर्व में किया गया विश्वास घात आपके मन में कष्ट दे रहा हो. हालांकि, शाम का समय आपके लिए अच्छी खबर लेकर आएगा.

3- मिथुन राशि

अधूरे कार्य पूरे करने के लिए आज का दिन आपका सफल रहेगा. पूर्व में किए गए प्रयास आपके सराहे जाएंगे. कहीं न कहीं तनाव महसूस होगी लेकिन बड़ी सफलता आज के दिन आपको हासिल होगी.

4- कर्क राशि

आर्थिक दृष्टिकोण से आपके लिए दिन अच्छा रहेगा. आज के दिन आपके इच्छित कार्य पूरे होंगे और धन से जुड़ी कोई बड़ी समस्या का निदान होगा. मन में शांति रहेगी.

5- सिंह राशि

मनचाही इच्छाओं की पूर्ति होगी. मन में संतुष्टि और सबके साथ एक बहुत अच्छ तालमेल बना रहेगा. बहुत दिनों से कोई इच्छा थी वो पूरी होती नज़र आ रही है.

6- कन्या राशि

वाहन और अग्नि के प्रयोग में सावधानी बरतें. आपको चोट या दुर्घटना का सामना करना पड़ सकता है. आप में से कई लोग अपने आपको मानसिक रूप से निर्बल महसूस करेंगे.

7- तुला राशि

जीवन के नए पड़ाव की शुरुआत करने का समय है. आने वाला समय आपके लिए चुनौतीपूर्ण रहेगा. आप बहुत बढ़िया तरीके से उभर पाएंगे.

8- वृश्चिक राशि

संस्थान से जुड़े महत्वपूर्ण निर्णय ले पाएंगे. पूजा पाठ से जुड़ी चीज़ों के प्रति आपका रुझान बढ़ेगा. वरिष्ठों का सहयोग मिलेगा और निर्णय लेने की अद्भुत क्षमता रहेगी.

9- धनु राशि

भविष्य से जुड़ी नई प्लानिंग आप कर पाएंगे. विदेश से जुड़े कार्य सफल रहेंगे. विदेश के लोगों के प्रति या विदेशी यात्राओं के प्रति आपका रुझान बढ़ेगा.

10- मकर राशि

यह समय आपका मित्रों के साथ बिताने का रहेगा. रिश्तों में मजबूती और घर में ख़ुशी का माहौल रहेगा. बहुत दिनों से किसी शुभ समाचार का इंतज़ार कर रहे थे तो वो आज के दिन मिलेगा.

11- कुम्भ राशि

मानसिक तनाव और छोटी परेशानियां आपको घेरकर रखेंगी. किसी बात को लेकर आप थोड़ा परेशान हो सकते हैं. बहुत जल्दबाज़ी में किसी भी प्रकार का निर्णय न लें.

12- मीन राशि

एक प्यारा प्रस्ताव या खुशखबरी आपके दिन को बेहतर बनाएगी. आज के दिन आपको कोई अच्छी खबर मिलेगी और पारिवारिक सुख की प्राप्ति होगी.

जिनका आज जन्मदिन है उनको हार्दिक शुभकामनाएं

दिनांक 17 को जन्मे व्यक्ति का मूलांक 8 होगा। यह ग्रह सूर्यपुत्र शनि से संचालित होता है। इस दिन जन्मे व्यक्ति धीर गंभीर, परोपकारी, कर्मठ होते हैं। आपकी वाणी कठोर तथा स्वर उग्र है। आप भौतिकतावादी है। आप अदभुत शक्तियों के मालिक हैं। आप अपने जीवन में जो कुछ भी करते हैं उसका एक मतलब होता है। आपके मन की थाह पाना मुश्किल है। आपको सफलता अत्यंत संघर्ष के बाद हासिल होती है। कई बार आपके कार्यों का श्रेय दूसरे ले जाते हैं।

शुभ दिनांक : 8, 17, 26

शुभ अंक : 8, 17, 26, 35, 44

शुभ वर्ष : 2024, 2042

ईष्टदेव : हनुमानजी, शनि देवता

शुभ रंग : काला, गहरा नीला, जामुनी

कैसा रहेगा यह वर्ष
सभी कार्यों में सफलता मिलेगी। जो अभी तक बाधित रहे है वे भी सफल होंगे। व्यापार-व्यवसाय की स्थिति उत्तम रहेगी। नौकरीपेशा व्यक्ति प्रगति पाएंगे। बेरोजगार प्रयास करें, तो रोजगार पाने में सफल होंगे। शत्रु वर्ग प्रभावहीन होंगे, स्वास्थ्य की दृष्टि से समय अनुकूल ही रहेगा। राजनैतिक व्यक्ति भी समय का सदुपयोग कर लाभान्वित होंगे।