मंडलीय अस्पताल के होम्योपैथ एवं आयुर्वेदिक विभाग में दवा के कमी

0

बैरंग लौट रहे मरीज व परिजन, स्वास्थ्य विभाग-प्रशासन मौन

वाराणसी। पूर्वांचल का जाना माना विख्यात मंडली चिकित्सालय कबीरचौरा अस्पताल प्रांगण के अंदर स्थापित होम्योपैथ एवं आयुर्वेदिक दवा के कमी से आसपास और दूरदराज के मरीज बैरंग वापस लौट रहे है। जिससे स्वास्थ्य प्रशासन पर मरीजों के जनहित पर सवालिया निशान खड़ा कर रहा है।

गौरतलब हो कि विगत 1 वर्ष से होम्योपैथ आयुष विंग एवं आयुर्वेदिक दवाओं के घोर किल्लत से मरीज काफी परेशान है। जिससे मरीजों को शारीरिक, मानसिक एवं आर्थिक तौर से गुजरना पड़ रहा है यह हाल सिर्फ मंडलीय चिकित्सालय का ही नहीं है। पंडित दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल, चिरईगांव अस्पताल, पिंडरा अस्पताल इत्यादि जगहों पर होम्योपैथ और आयुर्वेदिक दवा के उपलब्ध न होने से गरीब जनता को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

कई बार लिखित, मौखिक शिकायत यहां पर चाइना डॉक्टरों ने प्रमुख अधीक्षक डॉक्टर प्रसन्न कुमार से लेकर सीएमओ डॉक्टर वीवी सिंह तक से कह चुके हैं इसके बावजूद भी दवा का उपलब्धता इन अस्पतालों में ना होने से मरीजों के साथ खिलवाड़ करने का कार्य स्वास्थ्य प्रशासन कर रहा है।

मरीजों के शिकायत पर स्वास्थ्य प्रशासन मौन धारण किए हुए अगर यही हाल रहा तो होम्योपैथ और आयुर्वेदिक दवा लेने वालों का भरोसा अस्पतालों से उठ जाएगा जिसकी सारी जिम्मेदारी शासन प्रशासन की होगी।