पति को सर्बस्य मानने वाली पत्नी पति व्रता

0
60

पति को सर्बस्य मानने वाली पत्नी पति व्रता

नौनेर (मैनपुरी ),,, ग्राम नौनेर मे चल रही श्री मदभागवत कथा के तृतीय दिवस मे खंड पीठ इटावा की धरती पधारे आचार्य परशुराम द्विवेदी जी ने सती चरित्र पर प्रकाश डालकर अपनी मधुर वाणी से भक्तो को भाव विभोर कर दिया पूज्य आचार्य परशुराम द्विवेदी जी ने बताया की शंकर भगवान की पत्नी मईया सती जैसी पति व्रता थी फिर संकर भगवान ने उनका परित्याग कर दिया क्युकी भगवान से मईया सती ने जूठ बोलकर भोले बाबा के इस्ट राम जी की परीछा ली थी इस लिए भोले बाबा ने मईया का परित्याग कर दिया पूज्य महाराज श्री ने बातया की पति पत्नी के बीच यदि छल कपट आने लगे तो उनके जीवन की गाड़ी पटरी से उतरने लगती है इस लिए पत्नी कभी भी कोई मन्दिर ना जाए और ना पूजा कर पाए फिर भी वो यदि अपने पति को सर्बस्य मानती रहे तो वो पत्नी संसार के लिए पूजनीय हो जाएगी इस पावन अवसर पर यजमान की भूमिका मे रविंद्र सिंह उनके सहयोग मे रामवीर सिंह राजीव सिंहचंद्रभान सिंह हिमांशु आचार्य शैलेन्द्र कुमार द्विवेदी वा समस्त ग्राम वासी हिस्सा ले रहे है