मुख्यमंत्री ने जनपद गोरखपुर में संकेत राजकीय मूक बधिर विद्यालय का निरीक्षण किया

0
118

लखनऊ:- मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दिव्यांग नाम देकर दिव्यांगजन के जीवन में परिवर्तन लाने का काम किया है। प्रधानमंत्री के मार्गदर्शन में प्रदेश सरकार दिव्यांगजन के सम्मान व उन्हें समाज की मुख्य धारा में शामिल करने के लिए लगातार कार्य कर रही है।

  • प्रधानमंत्री ने दिव्यांग नाम देकर दिव्यांगजन के जीवन में परिवर्तन लाने का काम किया: मुख्यमंत्री
  • प्रदेश सरकार दिव्यांगजन के सम्मान व उन्हें समाज की मुख्य धारा में शामिल करने के लिए लगातार कार्य कर रही
  • पहले इस विद्यालय का भवन जर्जर था, प्रदेश सरकार ने नया भवन बनवा दिया
  • संकेत राजकीय मूक बधिर विद्यालय में छात्रावास का निर्माण कर इसे आवासीय विद्यालय के रूप में परिवर्तित किया जाएगा
  • छात्र-छात्राओं द्वारा लगाई गई प्रदर्शनी का अवलोकन किया तथा उन्हें उपहार भी भेंट किए
  • विद्यालय के ऐसे बच्चे जो कम बोल/सुन सकते हैं, उन बच्चों की कॉक्लियर इम्प्लांट एवं स्पीच थेरेपी द्वारा उपचार/सर्जरी की जाये, इसके लिये केन्द्र/राज्य सरकार धनराशि भी प्रदान कर रही
  • मुख्यमंत्री ने विद्यालय तक आवागमन की असुविधा दूर करने के लिए जिलाधिकारी व नगर निगम को निर्देश दिए
  • मुख्यमंत्री ने छात्र-छात्राओं से संवाद स्थापित किया, उनके द्वारा लगाई गई प्रदर्शनी का अवलोकन किया व छात्र-छात्राओं को उपहार भेंट किए

मुख्यमंत्री आज जनपद गोरखपुर में संकेत राजकीय मूक बधिर विद्यालय का निरीक्षण करने के उपरान्त अपने विचार व्यक्त कर रहे थे। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने विद्यालय के छात्र-छात्राओं से संवाद स्थापित किया। एक शिक्षक ने उनकी बातों को संकेतों के जरिये छात्र-छात्राओं तक पहुंचाया। उन्होंने छात्र-छात्राओं द्वारा लगाई गई प्रदर्शनी का अवलोकन किया तथा उन्हें उपहार भी भेंट किए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि संकेत राजकीय मूक बधिर विद्यालय में छात्रावास का निर्माण कर इसे आवासीय विद्यालय के रूप में परिवर्तित किया जाएगा। इससे आर्थिक रूप से कमजोर परिवार के दिव्यांग बच्चों को काफी राहत मिलेगी व उनकी प्रतिभा का विकास होगा। बच्चों की प्रतिभा का उपयोग राष्ट्र निर्माण में किया जा सकता है। यह बच्चे समाज के लिये पे्ररणा के स्रोत होगें।

आवासीय विद्यालय में बच्चों को सुरक्षित वातावरण दिया जाएगा। उन्होंने संकेत विद्यालय तक आवागमन की असुविधा दूर करने के लिए जिलाधिकारी व नगर निगम को निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कई दिनों बाद इस विद्यालय में आकर उन्हें बेहद खुशी हो रही है। पहले इस विद्यालय का भवन जर्जर था, प्रदेश सरकार ने यहां नया भवन बनवा दिया है। विद्यालय के ऐसे बच्चे जो कम बोल/सुन सकते हैं, उन बच्चों का कॉक्लियर इम्प्लांट एवं स्पीच थेरेपी द्वारा उपचार/सर्जरी की जाये, इसके लिये केन्द्र/राज्य सरकार धनराशि भी प्रदान कर रही है।

इस अवसर पर जनप्रतिनिधिगण व वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।