कुठौंद में वैषणवी पैराडाइस में आदिशिल्पी भगवान विश्वकर्मा जी की जयंती मनाई गई

कुठौंद में वैषणवी पैराडाइस में आदिशिल्पी भगवान विश्वकर्मा जी की जयंती मनाई गई

कुठौंद (जालौन) भगवान विश्वकर्मा ने ही देवताओं के लिए महलों, हथियारों और सिंहासनों का निर्माण किया था। रावण की लंका से लेकर श्री कृष्ण की द्वारिका और पांडवों के इंद्रप्रस्थ का निर्माण भगवान विश्वकर्मा द्वारा ही किया गया था। इस दिन लोग अपनी मशीनों, औजार और वाहन आदि की पूजा करते हैं ताकि वह बिना किसी रुकावट के काम करें। साथ ही विश्वकर्मा पूजा के विशेष दिन पर कामकाजी लोग अपने बेहतर भविष्य, सुरक्षित कामकाजी परिस्थितियों और अपने कार्यक्षेत्र में सफलता पाने के लिए विश्वकर्मा जी की पूजा करते हैं। इस अवसर पर आयोजक मंडल में संचालक राहुल झा , विष्णु विश्कर्मा , राजू झा , सौरभ झा , शिवम् झा , हरेराम शुक्ल ,शीपु होटल इत्यादि ने श्रद्धालुओं का ाचा ख्याल रखा एवं विशाल भंडारे का आयोजन सुबह से रात तक चलाया। आयोजक डाक्टर शिवकुमार झा।।