अपर मुख्य सचिव ने हाथ कागज सेंटर का किया निरीक्षण

अपर मुख्य सचिव ने हाथ कागज सेंटर का किया निरीक्षण

उधमियों ने उठाई समस्याये

कालपी (जालौन) उ.प्र.शासन के अगर मुख्य सचिव डा.नवनीत सहगल ने हाथ कागज उत्पादन केन्द्र कालपी का औचक निरीक्षण किया।इस दौरान उन्होंने कागज के बनाने की विधि को देखकर गुणवत्ता बनाने पर जोर दिया गया।
प्राप्त जानकारी के अनुसार श्रमिकों को कार्य करने के लिए उत्तर प्रदेश खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड विभाग के द्वारा 1958 में हाथ कागज उत्पादन केंद्र की स्थापना कराई गई थी। हाथ कागज बनाने का कार्य सिखाया भी जाता है।माल की बिक्री,तकनीकी तथा आर्थिक समस्या की वजह से उत्पादन केन्द्र वर्ष 1998 मे बंद हो गया था।अपर मुख्य सचिव डा.नवनीत सहगल ने उत्पादन केन्द्र को शुरू करने के लिए वर्ष 2020 मे शासकीय धन आवंटित कराया था।फलस्वरूप नये सिरे से उत्पादन केन्द्र की फिर से शुरुआत की गई। कार्य की हकीकत को परखने के लिये अपर मुख्य सचिव नवनीत सहगल शुक्रवार की शाम को परिसर में पहुंचे उन्होंने वीटर ,सरेंडर मोड़ तथा हाथ के द्वारा तैयार हो रहे पल्प तथा फाइल कवर शीट,कागज के उत्पाद की विधि को देखा। इसी प्रकार डाई कटिंग मशीन के बक्सों एवं प्रेस मशीन का भी निरीक्षण किया।उपजिलाधिकारी कौशल कुमार, जिला उधोग केन्द्र के उपायुक्त योगेश कामेश्वर, जिला सूचना अधिकारी श्रीकृष्ण मिश्रा, उप्र.हाथ कागज उत्पादन समिति के अध्यक्ष नरेन्द्र तिवारी, मंडलीय ग्रामोद्योग प्रशिक्षण केन्द्र के प्राचार्य शिशुपाल गोयल आदि प्रमुख रूप से मौजूद रहे। केंद्र के सहायक निदेशक उद्योग मनोज कुमार दिवाकर ने बताया कि केंद्र में कागज बनाने का कार्य किया जा रहा है। उप जिलाधिकारी ने केंद्र की साफ सफाई व्यवस्था कराने के निर्देश दिए। इस मौके पर उत्पादन केन्द्र के एडीओ प्रथम संतोष कुमार गोरेलाल कताई पर्यवेक्षक ज्ञान चंद शर्मा आदि मौजूद रहे।इस मौके पर कागज उधमियों के प्रतिनिधि मंडल के साथ नरेन्द्र तिवारी ने तीन सूत्रीय मांगों का ज्ञापन सौंपकर समस्याओं को निदान करने मांग उठाई।