बेटे के इलाज के लिए बेंच डाला जमीन का आखिरी टुकड़ा

बेटे के इलाज के लिए बेंच डाला जमीन का आखिरी टुकड़ा

माधौगढ़, जालौन । कैंसर रोग से अपने बेटे के प्राण बचाने के लिए गरीब ग्रामीण में अपने सभी रिश्तेदारों से कर्ज लेने के बाद जीवकोपार्जन के लिए बची जमीन का आखिरी टुकड़ा भी बेंच डाला।
माधौगढ़ तहसील अंतर्गत ग्राम गणेश नगर (गडेरना) निवासी सोने लाल खांगर उम्र 86 वर्ष पुत्र दर्शन खांगर की दो संतानों में जेष्ठ पुत्र रमेश चंद्र उम्र 54 वर्ष पिछले 8 माह से कैंसर रोग से पीड़ित है। गरीब के घर इस महंगी बीमारी ने दस्तक क्या दी , तबाही मचा दी और हमेशा मान सम्मान से जीवन जीने वाले वृद्ध सोने लाल ने अपने बेटे के इलाज के लिए अपनी गर्दन नीची कर अपने सभी नाते रिश्तेदारों मित्रों के आगे हाथ फैला कर मदद ली व रमेश का यथाशक्ति इलाज कराया। पिछले 8 माह में लाखों रुपया पानी की तरह वह जाने तथा मदद मिलने के सभी रास्ते अवरुद्ध हो जाने के बाद गत 2 माह पूर्व अपनी दो बीघा जमीन कौड़ियों के मोल तीन लाख रुपया में विक्रय कर दी लेकिन तीन लाख रुपया तो जैसे कुछ होते ही नहीं और वह देखते देखते समाप्त हो गए, इसके बाद पिता ने अपनी जमीन का आखिरी टुकड़ा भी 1 लाख 50 हजार रुपया में मुआहदा (विक्रय अनुबंध) कर दिया। आज माधौगढ़ तहसील में अपने पोते धर्मेंद्र तथा जितेंद्र पुत्र गण रमेश चंद्र के साथ आए 86 वर्ष वृद्ध सोने लाल खांगर ने डबडबाई आंखों से बताया कि मैं अपने बेटे के प्राण बचाने के लिए इलाज कराने हेतु अपना सब कुछ बेंच देने को तैयार है ।

*सरकारी सहायता की दरकार*

कैंसर पीड़ित रमेश के पुत्र धर्मेंद्र सिंह व जितेंद्र सिंह ने बताया कि वह अपने पिता को जीवित देखना चाहते हैं इसके लिए इलाज कराते कराते मेरे पास जो कुछ था वह सब विक्रय हो गया यदि अब सरकारी सहायता मिल जाए तो मेरे पिता का इलाज संभव है।