भारतीय हॉकी टीम के कोच पीयूष दुबे का चित्रकूट आगमन पर हुआ भव्य स्वागत अभिनंदन

भारतीय हॉकी टीम के कोच पीयूष दुबे का चित्रकूट आगमन पर हुआ भव्य स्वागत अभिनंदन

चित्रकूट – गत दिनों टोक्यो में आयोजित 2020 ओलंपिक खेलों में भारत को कांस्य पदक दिलाने वाले भारतीय हॉकी टीम के कोच पीयूष दुबे का चित्रकूट आगमन पर चित्रकूट पब्लिक स्कूल और श्रीजी इंटरनेशनल स्कूल में भव्य स्वागत समारोह आयोजित किया गया दोनों जगह आयोजकों ने उन्हें शाल, श्रीफल आदि प्रतीक चिन्ह देकर सम्मानित किया, उनके साथ उन्हें हाकी पकड़ा कर इस मुकाम तक पहुंचाने वाले उनके गुरु पूर्व भारतीय हॉकी टीम के कोच प्रेम शंकर शुक्ला को भी सम्मानित किया गया । चित्रकूट पब्लिक स्कूल में बच्चों ने उनके सम्मान में शानदार प्रस्तुति देकर उन्हें भाव विभोर कर दिया और वह बेहद भावुक नजर आए अपने संबोधन में पीयूष दुबे ने कहा कि भगवान राम की तपोस्थली चित्रकूट में जो सम्मान और बड़े बुजुर्गों व संतों का आशीर्वाद मिला उससे उन्हें और आगे बढ़ने की ऊर्जा मिली है, सीपीएस के बच्चों ने पीयूष दुबे के बचपन से लेकर अब तक हाकी से जुड़ी गतिविधियों की झांकी प्रस्तुति कर उनका दिल जीत लिया, वह बोले पूरी दुनिया में ऐसा सम्मान ऐसी प्रस्तुति ना कभी देखने को मिली है ना शायद भविष्य में मिलेगी, वह बेहद प्रफुल्लित नजर आए, बच्चों को आगे बढ़ने के लिए उन्होंने कई प्रेरक अनुभव साझा किया उन्होंने कहा कि किसी व्यक्ति की सफलता जीवन में तब मानी जाती है जब उसे ऊंची मुकाम की उपलब्धि मिलती है, यह उपलब्धि सतत प्रयास से ही संभव है जब तक स्वप्रेरणा नहीं होती तब तक कोई अपने जीवन के लक्ष्य को हासिल नहीं कर सकता हर व्यक्ति को जीवन में एक लक्ष्य बनाना चाहिए और उस लक्ष्य की प्राप्ति के लिए पूरी इमानदारी से कठिन परिश्रम करना चाहिए, कहा कि जो खिलाड़ी होते हैं उनकी याददाश्त बहुत अच्छी होती है इसलिए पढ़ाई के समय खेल और पढ़ाई में सामंजस्य होना चाहिए जीवन में एक लक्ष्य जरूर बनाएं और किसी को अपना आदर्श मान उससे सतत प्रेरणा लेकर आगे बढ़ें, कहा कि खेलों से व्यक्ति का चहुंमुखी विकास होता है व्यक्ति को लक्ष्य तक पहुंचाने में खेलों की बहुत भूमिका होती है, भारत को इस बार 41 वर्षों बाद ओलंपिक 2020 में कांस्य पदक मिला है इससे हमारा देश का गौरव पूरी दुनिया में बढा है, इस उपलब्धि के पीछे देश के प्रधानमंत्री मोदी की प्रेरणा भी बहुत काम आई है पुणे यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कोही खेल प्रेमी बताया कहा कि उन्होंने हॉकी टीम का बहुत सम्मान किया है चित्रकूट पब्लिक स्कूल के प्रबंधक रचित अग्रवाल ने उन्हें रामचरितमानस भेंट की और शाल ओढ़ाकर सम्मानित किया इसी तरह विद्यालय संरक्षक मंडल के राजीव अग्रवाल विवेक अग्रवाल गिरीश अग्रवाल और विद्यालय के प्रधानाचार्य सुरेश चंद वर्मा ने भी उनका सम्मान किया कार्यक्रम का संचालन शिक्षक स्वतंत्र कुमार द्वारा किया गया इसी क्रम में श्रीजी इंटरनेशनल स्कूल में भी भारतीय हॉकी कोच पीयूष दुबे के सम्मान में भव्य स्वागत समारोह आयोजित किया गया जिसकी अध्यक्षता प्रख्यात कथावाचक आचार्य नवलेश दीक्षित ने की कार्यक्रम में स्कूल के मैनेजर डॉ सुरेंद्र अग्रवाल अजय अग्रवाल व निदेशक स्वप्निल अग्रवाल प्रिंसिपल भारती शर्मा ने पीयूष दुबे जी को प्रतीक चिन्ह व शाल भेंट कर सम्मान किया पूर्व हॉकी टीम के कोच प्रेम शंकर शुक्ला ने कहा उनके शिष्य मौजूदा भारतीय हॉकी टीम के कोच पीयूष दुबे के नेतृत्व में ओलंपिक खेलों में हाकी टीम ने पूरे देश का माथा ऊंचा किया है उन्हें बेहद खुशी है उन्होंने अपने शिष्य पीयूष दुबे और पूरी टीम को बधाई दी इस मौके पर प्रेम शंकर शुक्ल द्वारा लिखी हॉकी खेल से संबंधित पुस्तक का विमोचन भी किया गया कार्यक्रम में हाकी कोच की धर्मपत्नी ज्योति दुबे विजय सिंह विपुल सिंह अंकित त्रिपाठी सुरेश मिश्रा उर्फ राजा भाई सुधांशु पांडे के अलावा प्रेस क्लब चित्रकूट के अध्यक्ष अशोक द्विवेदी इंटरनेशनल फाइनेंस क्लब के राष्ट्रीय अध्यक्ष केशव शिवहरे हरिशंकर द्विवेदी आदि मौजूद रहे