विद्युत संबंधी कार्यों की जमीनी हकीकत जानने तथा उपभोक्ताओ की समस्याओ से रूबरू होने के लिए ऊर्जा मंत्री कर रहे औचक निरीक्षण

0
124
  • ऊर्जा मंत्री ने सीतापुर पहुंचकर रहीमाबाद गांव की विद्युत व्यवस्था सुधार में हो रहे कार्यों का किया स्थलीय निरीक्षण
  • जलालपुर फीडर के निरीक्षण में लोड पैनल, ट्रांसफार्मर, लागबुक व साफ-सफाई आदि व्यवस्था को देखा
  • विद्युत की खस्ताहाल व्यवस्था को सुदृढ़ कर, शीघ्र ही उपभोक्ताओं को दी जायेगी विद्युत समस्या से निजात
  • अनुरक्षण कार्य न होने से विद्युत व्यवस्था रही बेपटरी
  • पर्याप्त और निर्बाध विद्युत के लिए विद्युत तंत्र में किया जा रहा तेजी से सुधार
    -ए0के0 शर्मा

लखनऊ:- उत्तर प्रदेश के नगर विकास एवं ऊर्जा मंत्री ए0 के0 शर्मा विभागीय योजनाओं एवम् कार्यक्रमों के अन्तर्गत कराए जाने वाले विद्युत संबंधी कार्यों की जमीनी हकीकत जानने तथा उपभोक्ताओ की समस्याओ से रूबरू होने के लिए आज जनपद सीतापुर के ग्राम रहीमाबाद के फीडर बरई जलालपुर हुसैनगंज पहुंचकर फीडर का निरीक्षण किया तथा गांव के प्रधान एवं ग्रामीण उपभोक्ताओं से विद्युत सम्बंधी परेशानियों और विद्युत सुधार के लिए हो रहे कार्यों की जानकारी ली।

रहीमाबाद गांव के प्रधान ने ऊर्जा मंत्री को बताया कि गांव की बिजली की स्थिति ठीक है। विद्युत आपूर्ति को सुचारू बनाने के लिए गांव में दो बड़े ट्रांसफार्मर बदले जा चुके हैं और एक ट्रांसफार्मर और बदलना है। गांव में विद्युत सम्बंधी अनुरक्षण कार्य तेजी से कराये जा रहे हैं। ऊर्जा मंत्री ने प्राथमिक विद्यालय रहीमाबाद के पास बदले जा रहे ट्रांसफार्मर का निरीक्षण किया और अधिकारियों को ट्रांसफार्मर के समुचित रख-रखाव सम्बंधी आवश्यक निर्देश भी दिये। उन्होंने जलालपुर फीडर के निरीक्षण के दौरान लोड पैनल एवं ट्रांसफार्मर को देखा, लागबुक को चेक किया तथा फीडर की साफ-सफाई को बनाये रखने के निर्देश दिये।

ऊर्जा मंत्री ए0 के0 शर्मा ने ग्रामीणों को बताया कि विद्युत व्यवस्था के सुदृढ़ीकरण एवं निर्बाध विद्युत आपूर्ति के लिए विद्युत की जर्जर व्यवस्था को बदलने का कार्य किया जा रहा है इसके लिए विभाग की पांच योजनाओं के मद में कार्य हो रहे हैं। वर्तमान में कुल 23 हजार करोड़ रूपये से अधिक के कार्य चल रहे हैं। इसमें आरडीएसएस में 17 हजार करोड़ रूपये, बिजनेस प्लान में 05 हजार करोड़ रूपये, नगरीय निकायों की विद्युत व्यवस्था हेतु 01 हजार करोड़ रूपये, मुख्य अभियंता के स्तर से 01 हजार करोड़ रूपये के कार्य धरातल पर चल रहे हैं और विद्युत की आधारभूत संरचना को मजबूत करने के लिए युद्धस्तर पर कार्य किया जा रहा है।

ऊर्जा मंत्री ने कहा कि सीतापुर जनपद के लिए आरडीएसएस योजना में 146 करोड़ रू0 के कार्य स्वीकृत किये गये हैं। इसमें से 25 लाख रूपये प्रत्येक गांव के लिए विद्युत व्यवस्था हेतु मंजूर किया गया है। 2.40 करोड़ रूपये के कार्य इस उपकेन्द्र के तहत कराया जा रहा है। इस दौरान जर्जर-खुले तारों एवं जर्जर-झुके पोलों को बदला जा रहा है। ओवरलोड ट्रांसफार्मर अतिभारित फीडर को बदला जा रहा, इनकी क्षमता बढ़ाई जा रही। विद्युत उपकेन्द्रों में भी आवश्यक सुधार के कार्य किये जा रहे हैं साथ ही उपभोक्ताओं को बिजली पहुंचाने में लगाये गये बांस-बल्ली को भी हटाया जा रहा। विद्युत विभाग के सभी अधिकारी युद्धस्तर पर इन कार्यों को तेजी से करने में लगे हुए हैं।

ए0 के0 शर्मा ने कहा कि कुछ महीनों के पश्चात प्रदेश की बदहाल विद्युत व्यवस्था को दुरूस्त कर विद्युत की समस्या से हमेशा के लिए उपभोक्ताओं को छुटकारा दिलाया जायेगा। उन्होंने विभागीय अधिकारियों एवं कर्मचारियों को कार्यों में तेजी लाने व गुणवत्तापूर्ण कार्य करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि प्रदेश के सभी शहरी व ग्रामीण उपभोक्ताओं को निर्बाध विद्युत आपूर्ति देना है।

इसके लिए ही प्रदेश सरकार विद्युत व्यवस्था के पुराने ढांचे को बदलकर उसमें सुधार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि निर्बाध आपूर्ति में बाधा बन रही छोटी-छोटी कमियों को अनुरक्षण माह में दूर किया जायेगा, पूरे अक्टूबर माह प्रिवेंटिव मिंटिनेंस के लिए अनुरक्षण कार्य किया जा रहा। इसके पहले कभी भी व्यापक स्तर पर अनुरक्षण कार्य न होने से विद्युत व्यवस्था चरमरा गई थी। उन्होंने कहा कि विद्युत विभाग में हो रहे कार्यों में विगत एक माह में एक लाख खम्भे बदले गये। 06 हजार किमी0 से अधिक लम्बाई के जर्जर-खुले तारों को बदला गया।