जौनपुर -10 दिन पूर्व हुए मारपीट में घायल पुजारी की मौत, गांव में तनाव

0
aanya express
aanya express

मारपीट में घायल पुजारी ने तोड़ा दम, जवंशीपुर में तनाव
भारी फोर्स के साथ एडीएम, एएसपी ग्रामीण सहित अन्य अफसर पहुंचे जवंशीपुर गांव
घंटों वार्ता के बाद परिजनों को आर्थिक मदद व दोषियों पर कार्रवाई का आश्वासन देकर अंतिम संस्कार के लिए मनाया

जौनपुर:- 10 MAY रविवार, नेवढ़िया क्षेत्र के जवंशीपुर गांव में बच्चों के खेलने को लेकर विवाद में दस दिन पूर्व हुई मारपीट में घायल अधेड़ की शुक्रवार की रात वाराणसी में उपचार के दौरान मौत हो गई। घटना की खबर मिलते ही गांव में तनाव हो गया। दो वर्गों के बीच का मामला होने से पुलिस-प्रशासन भी सतर्क हो गया। गांव में भारी फोर्स तैनात कर दी गई है। एडीएम, एएसपी सहित अन्य अफसरों ने गांव पहुंचकर ग्रामीणों से वार्ता की। आश्रितों को आर्थिक सहायता और आरोपियों पर कार्रवाई के आश्वासन के बाद परिजन अंतिम संस्कार को राजी हुए।

जवंशीपुर गांव स्थित मंदिर परिसर में कुछ बच्चे खेल रहे थे। मंदिर की देखभाल करने वाले बद्री पटेल (50) ने मंदिर में खेलने से मना किया तो दूसरे पक्ष के लोगों से विवाद हो गया। देर शाम उन्होंने बद्री पटेल के घर पहुंचकर मारपीट की। इसमें बद्री और उनके पुत्र महेश, मुन्ना को गंभीर चोट आई। शोर सुनकर अन्य लोग पहुंचे तो हमलावर भाग गए।

तीनों घायलों को जिला अस्पताल ले जाया गया, जहां हालत गंभीर होने पर 29 अप्रैल को बद्री को वाराणसी रेफर कर दिया गया। किसी ने उनके मौत की अफवाह फैला दी, जिससे दोनों पक्षों के लोग फिर आमने-सामने हो गए। घायल पक्ष की ओर से हमलावरों की बस्ती में पहुंचकर पथराव व तोड़फोड़ किया गया था।

अगले दिन पुलिस पर सुस्ती का आरोप लगाते हुए विरोध प्रदर्शन भी किया था। पुलिस ने दोनों पक्षों पर केस दर्ज कर मामला शांत कराया। वाराणसी में भर्ती बद्री पटेल की शुक्रवार की देर रात मौत हो गई। इसकी खबर मिलते ही ग्रामीण फिर उग्र हो गए। अंतिम संस्कार न करने की चेतावनी दी।

सूचना पाकर एडीएम रामप्रकाश, एएसपी ग्रामीण संजय राय, एसडीएम मड़ियाहूं कौशलेंद्र मिश्र, सीओ विजय सिंह, अवधेश शुक्ला, तहसीलदार सुदर्शन राम कई थानों की फोर्स और दो प्लाटून पीएसी के साथ गांव पहुंच गए।

ग्राम प्रधान मुन्ना सिंह सहित अन्य क्षेत्रीय लोगों की मौजूदगी में वार्ता करते हुए परिजनों को आश्वस्त किया कि दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी। मृतक आश्रित को किसान दुर्घटना बीमा योजना के तहत पांच लाख रुपये की मदद और जमीन का पट्टा करने का आश्वासन दिया। वहीं, मड़ियाहूं विधायक के पुत्र सात्विक तिवारी ने मृतक के परिजनों को 10 हजार रुपये का आर्थिक सहयोग प्रदान किया।