परम आनंद देने वाला सुख का सागर हैं भगवान राम का नाम- मुरलीधर

0
38

परम आनंद देने वाला सुख का सागर हैं भगवान राम का नाम- मुरलीधर

– रामायण मेला परिसर में चल रही कथा का तीसरा दिन

चित्रकूट ब्यूरो: सीतापुर स्थित रामायण मेला परिसर में चल रही नौ दिवसीय रामकथा के तीसरे दिन गुरुवार को कथा वाचक संत मुरलीधर महाराज ने गोस्वामी तुलसीदास महाराज द्वारा रचित श्रीरामचरितमानस के बालकांड में वणिर्त राजा दशरथ के भगवान श्रीराम सहित चारों पुत्रों के नामकरण संस्कार, बाललीलाओं, विद्यारंभ संस्कार, अहल्या उद्धार, पुष्प वाटिका, सीता स्वयंवर प्रसंग, धनुष भंग प्रसंग के साथ भगवान श्रीराम व माता सीता के विवाह प्रसंग का बड़े ही सुन्दर भाव से वणर्न किया।
कथा प्रसंग के माध्यम से कथा वाचक संत मुरलीधर महाराज ने कहा कि सीता भक्ति तथा धनुष अहंकार का प्रतीक है यदि हम भक्ति रूपी सीता को प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे मन में बसे अहंकार रुपी धनुष को भंग करना होगा। कथा के दौरान भगवान राम व जगत जजनी माता सीता के विवाह पर लोक संस्कृति के मांगलिक गीतों पर सभी श्रोता आनंदित होकर खूब झूमे। कथावाचक ने कहा कि यूं तो धाम-धाम में सुख है, लेकिन सुख का धाम केवल राम है। कलियुग में केवल राम का नाम ही आधार है तथा यही राम नाम परम आनन्द देने वाला सुख का सागर है। कहा कि जीवन रुपी गाड़ी में सुख व दुख दो तरह के स्टेशन है, लेकिन एक राम नाम रुपी ऐसा जंक्शन है, जहां से जीवन की गाड़ी मोड़ने पर आंनद ही आनंद की प्राप्ति होती है। जो लोग राम नाम का सहारा लेते हैं, वे जगत का आधार बन जाते है। इस मौके पर भागवताचायर् सिद्धाथर् पयासी, चंद्रकला, रमेश चंद्र मनिहार, विजय महाजन, नीलम महाजन, गरीब राम सहित संत, वृंद व श्रद्धालु मौजूद रहे।

#बुन्देलखण्ड_दस्तक #आन्या_एक्सप्रेस
#चित्रकूट #जालौन   #ताजा_खबरें #न्यूज_उपडेट #उरई #झांसी #कानपुर #महोबा #हमीरपुर #डैली_उपडेट #ताजा_खबर #bundelkhandnews #bundelkhanddastak #बुंदेलखंडदस्तक