जंगलों में आग लगने के जिम्मेदार कर्मचारियों पर हो कार्यवाही – डीएम

0
38

जंगलों में आग लगने के जिम्मेदार कर्मचारियों पर हो कार्यवाही – डीएम

– समीक्षा बैठक में डीएम ने डीएफओ को दिए निर्देश

चित्रकूट ब्यूरो: जिलाधिकारी शुभ्रान्त कुमार शुक्ल की अध्यक्षता में मंगलवार को कलेक्ट्रेट सभागार में गेहूं खरीद, पीएम स्वनिधि योजना, कोविड वैक्सीनेशन, पेयजल, स्कूल चलो अभियान, नीति आयोग के अंतगर्त निमार्ण कायोंर्, फॉरेस्ट फायर की दैनिक समीक्षा सहित अन्य बैठके आयोजित की गई।
बैठक में जिलाधिकारी ने प्रभागीय वनाधिकारी आर के दीक्षित को निदेर्शित किया कि वन विभाग के कमर्चारी जंगलों में आग लगाने में सम्मिलित हैं, उनके ऊपर कायर्वाही करें। उन्होंने वन विभाग के जो अधिकारी शहरों में रहते हैं, वह मौके पर जाकर जंगलों की निगरानी करें। उन्होंने कहा कि आग दो प्रकार से लगती है। एक मानव जनित एवं एक दुघर्टना से लगती है। जिसमें मानव जनित अग्नि सबसे ज्यादा हो रही है। उन्होंने कहा कि वन विभाग की जो कमर्चारी छुट्टी लिए हैं, उनकी छुट्टियां रद्द करें। उन्होंने कहा कि जून सभी को जंगलों की रक्षा करनी होगी। जैसे बच्चों की देखभाल होती है, उसी तरह पेड़ों की भी देखभाल करनी होगी। उन्होंने कहा कि जिस क्षेत्र में आग लगती है, वहां के कमर्चारियों से स्पष्टीकरण मांगा जाए। कहा कि जो क्षेत्र अतिसंवेदनशील है, वहां पर कमर्चारियें की ड्यूटी लगाएं। इसके बाद स्वास्थ्य विभाग द्वारा चलाए जा रहे संचारी रोग नियंत्रण अभियान के बारे में भी बताया। उन्होंने कहा कि की संचारी रोगों के प्रति सभी जगह बैनर पोस्टर लगाकर प्रचार-प्रसार कराएं, जिससे लोगों तक इनकी जानकारी पहुंचे। साथ ही इनकी फोटोग्राफ भी एक ग्रुप बनाकर उसमें भेजें। नगर विकास विभाग के अधिकारियों को निदेर्शित किया कि गंदी नालियों व समस्त रुकी हुई नालियों को चिन्हित कर उनकी
साफ-सफाई कराएं, समस्त जलभराव वाले स्थानों को एटी लावार् दवा का छिड़काव करें, जितने हैंडपंप खराब है, उन्हें लाल रंग से चिन्हित करें तथा शहरी क्षेत्रों में कायर् योजना बनाकर फागिंग कराएं। कहा कि कवीर्, मानिकपुर, राजापुर व मऊ नगर में सफाई की व्यवस्था अच्छी होनी चाहिए। बाल विकास पुष्टाहार विभाग के अधिकारियों कमर्चारियों को निदेर्शित किया कि समस्त आंगनबाड़ी कायर्कत्रियों का प्रशिक्षण एवं हैंडपंपों का लाल रंगों से चिन्हित कराएं। उन्होंने पशुपालन विभाग से स्वच्छता, गौशाला की सफाई, वैक्सीनेशन, सूअर बाडों की साफ-सफाई, कीटनाशक छिड़काव, मच्छर रोधी जाली ढकने के लिए प्रशिक्षित किए जाएं। उन्होंने शिक्षा विभाग के अधिकारियों से कहा कि बच्चों में जागरूकता बढ़ाने के लिए स्कूलों में संचारी रोगों के प्रति जागरूकता लाने के लिए पोस्टर, पेंटिंग, निबंध आदि प्रतियोगिताएं कराई जाए। संचारी रोगों के पोस्टर को स्कूलों के प्रमुख स्थानों पर प्रदशिर्त किया जाए। स्कूलों में प्राथर्ना सभा के दौरान संचारी रोगों के बचाव के प्रति जानकारी दी जाए। बताया कि 15 से 30 अप्रैल तक संचारी रोग नियंत्रण अभियान चलेगा। उन्होंने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को निदेर्शित किया कि 12 से 14 वषर् के बच्चों का अधिक से अधिक वैक्सीनेशन कराएं। कहा कि मिशन इंद्रधनुष के अंतगर्त सबसे कम वैक्सीनेशन शिवरामपुर में हुआ है, वहां पर अधिक ध्यान दें। उन्होंने कहा कि जीरो से दो साल के बच्चों को जो टीका लगाना है, उसे प्राथमिकता के साथ करें। पेयजल से सम्बंध में उन्होंने कहा कि जहां आबादी ज्यादा है, वहां पर टैंकरों के माध्यम से पेयजल पहुंचाया जाए तथा जहां पर हैंडपम्प नहीं, वह क्षेत्र चिन्हित कर लिए जाए। मुख्य विकास अधिकारी अमित आसेरी ने कहा कि पानी की बहुत समस्या है। इसमें टैंकर बढ़ा लीजिए। कहा कि जिला पंचायत राज अधिकारी इसकी समीक्षा भी करते रहें।
इस मौके पर मुख्य विकास अधिकारी अमित आसेरी, जिला पंचायत राज अधिकारी तुलसीराम, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी राजीव रंजन मिश्र, जिला मलेरिया अधिकारी प्रमोद कुमार शुक्ला, अधिशासी अधिकारी नगर कवीर् रामअचल कुरील, मानिकपुर राम आशीष वमार्, जिला खादी एवं ग्रामोद्योग अधिकारी राजेंद्र कुमार, प्रभागीय वनाधिकारी आरके दीक्षित सहित संबंधित अधिकारी व कमर्चारीगण मौजूद रहे।

#बुन्देलखण्ड_दस्तक #आन्या_एक्सप्रेस
#चित्रकूट #जालौन   #ताजा_खबरें #न्यूज_उपडेट #उरई #झांसी #कानपुर #महोबा #हमीरपुर #डैली_उपडेट #ताजा_खबर #bundelkhandnews #bundelkhanddastak #बुंदेलखंडदस्तक