धार्मिक क्षेत्र में बारूदी बम द्वारा मछली शिकारियों के हौसले बुलंद

0
39

धार्मिक क्षेत्र में बारूदी बम द्वारा मछली शिकारियों के हौसले बुलंद

– मंदाकिनी सैनिकों ने की ऐसा करने वालों के विरुद्ध कायर्वाही की मांग

चित्रकूट ब्यूरो: मंदाकिनी सेवा समिति द्वारा स्वच्छता श्रमदान के 34वें दिवस में पुलघाट किनारे ढेरों मरी हुई मछलियों को देखा गया। आसपास रहने वालों ने बताया कि देर रात पुलघाट, नावघाट एवं बजरंग आश्रम सहित मुक्तिधाम आदि जगहों पर बारूदी बम से मछली का खुलेआम शिकार किया जा रहा है। बड़ी मछलियों को शिकारी नदी से निकाल लेते हैं और छोटी मछली नदी में ही छोड़ दी जाती हैं।
समिति ने धामिर्क क्षेत्र में मछली शिकार की रोकथाम के लिए जिलाधिकारी से लिखित मांग की थी, लेकिन एक सप्ताह होने को है और जिला प्रशासन की ओर से इस रोकथाम के कोई आदेश नही दिया गया, जिससे शिकारी बड़े पैमाने से शिकार को अंजाम दे रहे हैं। समिति संस्थापक जुगनू खान ने बताया कि यह बारूद शिकारियों को कहाँ से मिल रहा है। पुलिस को भी इस मामले की बड़े स्तर से जांच करनी होगी। जुगनू ने बताया कि बीती शाम सरकारी रूप से कवीर् पुल में उगे पीपल के वृक्षों को काट कर हटाया गया, लेकिन कटे वृक्ष गंगा में ही फेंक दिया गया। सुबह समिति के श्रमदानी द्वारा गंगा में फेंके गए वृक्षों को निकाल कर बाहर किया गया है, वही घाट पर दो मृत जानवरो के शव भी बोरी में भर कर उतराते हुए देखे गए जिन्हें समिति द्वारा गंगा के बीच धारा से निकाल कर किनारे किये गए एवं नगर पालिका के कमलाकांत शुक्ल को जानकारी देने के साथ तत्काल पालिका की मदद से हटाया गया। वहीं जिला प्रशासन की अनदेखी के चलते साबुन, शैम्पू और तेल प्रयोग करने वालों की रोकथाम के आदेश या घाटों में कानूनी दिशा-निदेर्श बोडर् न लगवाए जाने से बड़ी तादात में गंगा का जल प्रदूषण होना गंभीर समस्या बनी हुई है। सुबह सभी धामिर्क विशेष घाटों में लोग कपड़ा धोने के अलावा दूध के डिब्बो वाले से निरमा का प्रदूषण गंगा की ऊपरी सतह में स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है । समिति ने बताया कि यदि जिलाप्रशासन अभी भी सबकुछ देखने सुनने के बाद कोई ठोस कदम नही उठाता है तो मजबूरी में स्वच्छता अभियान के साथ भूख हड़ताल कर जिलाप्रशासन को नींद से जगाने का काम किया जाएगा।

#बुन्देलखण्ड_दस्तक #आन्या_एक्सप्रेस
#चित्रकूट #जालौन #ताजा_खबरें #न्यूज_उपडेट #उरई #झांसी #कानपुर #महोबा #हमीरपुर #डैली_उपडेट #ताजा_खबर #bundelkhandnews #bundelkhanddastak #बुंदेलखंडदस्तक