टीम ने मिलावटी खाद्य पदार्थों की बिक्री पर रोक लगाने हेतु विभिन्न स्थानो पर छापामार कर निम्नलिखित कार्यवाही की गई।

0
38

टीम ने मिलावटी खाद्य पदार्थों की बिक्री पर रोक लगाने हेतु विभिन्न स्थानो पर छापामार कर निम्नलिखित कार्यवाही की गई।

उरई (जालौन)आयुक्त महोदया खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन लखनऊ उ०प्र० व जिलाधिकारी महोदय के निर्देशानुसार, खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन जनपद जालौन के अभिहित अधिकारी डॉ० जतिन कुमार सिंह के नेतृत्व में जनपद की समस्त तहसीलों में आगामी रक्षाबंधन त्यौहार के दृष्टिगत आम जनमानस को सुरक्षित एवं गुणवत्ता युक्त खाद्य पदार्थों की उपलब्धता हेतु आज खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन विभाग की टीम ने मिलावटी खाद्य पदार्थों की बिक्री पर रोक लगाने हेतु विभिन्न स्थानो पर छापामार कर निम्नलिखित कार्यवाही की गई। उन्होंने बताया कि जालौन तहसील के चुंगी नं0 04 पर स्थित महेन्द्र कुमार कुशवाहा की दुकान से खाद्य पदार्थ खोया व बूँदी के लड्डू का नमूना संग्रहित किया। माधौगढ़ तहसील के बंगरा पर स्थित राहुल कुशवाहा की दुकान से खाद्य पदार्थ गोद का लड्डू का नमूना संग्रहित किया।माधौगढ़ तहसील के बंगरा पर अनिल कुमार की दुकान से खाद्य पदार्थ वर्फी (खोया + चीनी से निर्मित) का नमूना संग्रहित किया।कोंच तहसील के मार्केण्डेयश्वर चौराहा पर स्थित रोहित सोनी की दुकान से खाद्य पदार्थ बेसन का लड्डू का नमूना संग्रहित किया।कोच तहसील के मार्केण्डेयश्वर चौराहा पर स्थित फरीद कुरैशी की दुकान से खाद्य पदार्थ मिठाई का नमूना संग्रहित किया। कोंच तहसील के मार्केण्डेयश्वर चौराहा पर स्थित शंकर मिष्ठान भण्डार से खाद्य पदार्थ लड्डू का नमूना संग्रहित किया। कोच तहसील के मार्केण्डेयश्वर चौराहा पर स्थित चन्द्रभान अग्रवाल की दुकान से खाद्य पदार्थ पेड़ा (खाया + चीनी से निर्मित) का लड्डू का नमूना संग्रहित किया। कुल 08 नमूनें संग्रहित किये गये व 04 खाद्य कारोबारकर्ताओं को सुधार नोटिस निर्गत किये गये एवं कुल लगभग 20 किलोग्राम मिठाई को संदेह के आधार पर नष्ट कराया गया। उक्त नमूनों को जाँच हेतु प्रयोगशाला प्रेषित किया गया। जॉच परिणाम प्राप्त होने पर खाद्य सुरक्षा एवं मानक अधिनियम 2006 के अर्न्तगत विधिक कार्यवाही अमल में लायी जायेगी।
टीम में डॉ० जतिन कुमार सिंह सहायक आयुक्त (खाद्य) – II, खाद्य सुरक्षा अधिकारी आलोक कुमार, कन्हैया लाल यादव, सुनील कुमार, खाद्य सहायक रमेश चन्द्र मौजूद रहें। यह अभियान आगे भी जारी रहेगा।